चिड़िया की हिम्मत

15-02-2021

चिड़िया की हिम्मत

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

साँप कहीं से आ टपका।
चढ़ा घोंसलें पर लपका।
बेचारी चिड़िया चिल्लाई।
चिचआई थोड़ी घबराई।
चूजे ची ची ची करते।
काँपें सहमें साँप से डरते।
चिड़िया में फिर हिम्मत आई।
उसने साँप से लड़ी लड़ाई।
साँप को उसने चोंच से मारा।
नीचे गिरा साँप बेचारा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
लघुकथा
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
दोहे
कविता-मुक्तक
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में