अरे गिलहरी

15-02-2021

अरे गिलहरी आओ।
नीचे दाना खाओ तुम।
पेड़ों पर चढ़ जाओ तुम।
कभी इधर कभी उधर।
फुदक फुदक कर।
मटक मटक कर।
मेरे मन को भाओ तुम।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
लघुकथा
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
दोहे
कविता-मुक्तक
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में