मुझे पतंग उड़ाना है।
आसमान तक जाना है।
 
रंग बिरंगी कितनी प्यारी।
आसमान में उड़ती न्यारी।
 
लहराती बलखाती झूमे।
नीचे आये ऊपर घूमें।
 
कितनी लम्बी इनकी पूंछें।
आसमान की जैसे मूंछें।
 
गोता खाकर नीचे आती।
फिर लहराकर ऊपर जाती।
 
नीचे गिरना ऊपर चढ़ना।
आगे बस आगे ही बढ़ना।
 
यह पतंग सिखाती है।
मेरे मन को भाती है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
लघुकथा
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
दोहे
कविता-मुक्तक
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में