फागुन ने कहा

01-02-2020

फागुन ने कहा कुछ
टेसू के कान में।


शिशिर ने ओढ़ी  
बसंती रज़ाई है।
मकर के सूरज में  
ठण्ड क्यों बौराई है।
कलियाँ सब महक उठीं
लेकर अंगड़ाइयाँ।
मादल वसंत भीगीं  
प्रेम की रुबाइयाँ।


कुसुमित पलाश मन
डूबा अभिमान में।


लहरीला रेशम सा
मौसम उन्मादी।
स्मृतियों के आँगन में
मन है परिवादी।
शब्द बने शिलाखंड
भाव नीर झरना है।
मलिनाते सपनों में
रंग बसंत भरना है।


अवहेलित पुष्प मन
झुकें हैं सम्मान में।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
लघुकथा
व्यक्ति चित्र
गीत-नवगीत
दोहे
कविता
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में