कुण्डलिया

 

ठंडा मौसम दे रहा, प्रीत निमंत्रण आज।
घुसो रज़ाई में सभी, छोड़ हाथ के काज।
छोड़ हाथ के काज, खड़ी क्यों हाथ सिकोड़े।
गरम जलेबी संग, तलो तुम आज पकोड़े।
सूरज हुआ निढाल, जलाओ लकड़ी कंडा।
बाँचो पाती नेह, आज मौसम है ठंडा।

 

सूरज मामा सो गए, ओढ़ रज़ाई आज।
पंछी भी इस ठण्ड में, भूल गए परवाज़।
भूल गए परवाज़, कोहरा जाल बिछाये।
मौसम की ये मार, धूप अब नज़र न आये।
बंद हुए असनान, छुपे सब दारा गामा।
तन में है भूचाल, कहाँ हो सूरज मामा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
नवगीत
कहानी
कविता
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
दोहे
लघुकथा
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
साहित्यिक आलेख
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो