खुशियों की बौछार है, होली रंग बहार।
हर चेहरा रंग में रँगा, प्रेम मिलन त्यौहार।
 
गोरी गाल गुलाल हैं, गाये फागें गीत।
है उन्मत्त उमंग मन, तन मन छाई प्रीत।
 
पिचकारी में भर लिए, मन के रंग हज़ार।  
मतवाली टोली चली, बरसे रंग फुहार।
 
बरसाने मोहन चले, श्यामल कान्त सुहास ।
छवि युगल रंग में रँगी, कमल भ्रमर आभास।
 
लिपटे लाल गुलाल सब, पिचकारी की धार।
कृष्ण, लली रंग में रँगे, होली मस्त बहार।  

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
गीत-नवगीत
कविता
सामाजिक आलेख
दोहे
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में