हाइकु दिवस पर विशेष - डॉ. सुशील कुमार शर्मा

15-12-2020

हाइकु दिवस पर विशेष - डॉ. सुशील कुमार शर्मा

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

(हाइकु दिवस पर विशेष )
 
ठंड के पाँव
फुनगी पर ओस
ठिठुरा गाँव।
 
मन पतंग
आशाओं का आकाश
जीवन डोर।
 
ज्वार की रोटी
नमक और प्याज
श्रम की खेती।
 
दो जोड़ी पंख
चीर गए आकाश
आत्म विश्वास।
 
गन्ने के खेत
कट कट गिरते
जीवन क्षण।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत
कहानी
कविता
दोहे
कविता-मुक्तक
सामाजिक आलेख
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में