चुप क्यूँ हो

01-10-2020

चुप क्यूँ हो

राजनन्दन सिंह

तुम कहते हो
मेरी वश चले तो
सारे गद्दारों को मिटा दूँ
झूठे चापलूस धोखेबाज़ों को
सबक़ सिखा दूँ
अपनी नीति से सबको
रोज़गार और मूल अधिकार दिला दूँ
निरक्षर को साक्षर बना दूँ
साक्षर को रोज़गार दिला दूँ
देश को ऊँचे से ऊँचे 
शिखर पर पहुँचा दूँ
तो सबसे पहले
तुम कुछ ऐसा क्यूँ नहीं करते
जिससे तुम्हारी वश चले
 
जिसे मिटाने की बात करते हो
तुम उसके चापलूस क्यों हो
चापलूसों को सिखाने से पहले
तुम ख़ुद क्यों नही सीख लेते
उन भ्रष्ट अवसरवादी धोखेबाज़ों से
तुम्हारी मित्रता क्यों है
वोट के लिए
तुम उपेक्षित ग़रीबों को बहलाते हो
दबंग उपेक्षकों के आगे दुम हिलाते हो
ऐसा क्यूँ
बोलो तुम चुप क्यों हो?

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में