विश्वासों से मन भर दो

01-08-2021

विश्वासों से मन भर दो

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

(गीत)
 

दूर करो ये घने अँधेरे ,
विश्वासों से मन भर दो।
 
चलो उठो गांडीव धनुर्धर
इस तमस को चीर दो तुम।
सूखती सी प्यासी धरा को
सलिल पावन नीर दो तुम।
 
मन के संशय सब मिट जाएँ,
कंठों में नवरस सर दो।
 
बढ़ो आगे ये तमस गहरा
सूर्य किरणें तुम उगाओ।
प्रश्न हैं अति गंभीर गुह्तम
इनके उत्तर खोज लाओ।
 
सूरज नया उगाकर मन में.
जीवन को समरस कर दो।
 
छटपटाती हैं शब्द लहरें
भाव के भूकंप गहरे।
काँपती है लौ धुँआ धूसर
दर्द दिल पर आज ठहरे।
 
संघर्षों की डोर बाँध कर,
सारी पीड़ा मन हर दो।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
बाल साहित्य कविता
कहानी
कविता
गीत-नवगीत
दोहे
लघुकथा
किशोर साहित्य कविता
नाटक
ग़ज़ल
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
बाल साहित्य लघुकथा
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
किशोर साहित्य नाटक
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में