अबके बरस मैं कैसे आऊँ

15-08-2020

अबके बरस मैं कैसे आऊँ

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

(रक्षाबंधन पर गीत)
 

अबके बरस मैं कैसे आऊँ
बाबुल का घर कैसे पाऊँ।


कुमकुम केसर सजी है थाली।
सुंदर राखी फुंदों वाली।
द्वार पे बैठी है तेरी बहना।
याद में तेरी बहते नैना।


कैसे मन को मैं समझाऊँ।
अबके बरस मैं कैसे आऊँ।


कोरोना ने रिश्ते तोड़े।
कहो कौन अब इनको जोड़े।
बंद शहर हर घर पर पहरे।
सूनी गलियाँ मन सब सहरे।


मन करता बस दौड़ी जाऊँ।
अबके बरस मैं कैसे आऊँ।


तुम हो मेरे प्यारे भैया।
माँ पापा की नाव खिवैया।
भेज रही हूँ राखी पावन।
आऊँगी मैं अगले सावन।


हर सुख तेरे सिर बँधवाऊँ
अबके बरस मैं कैसे आऊँ।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
लघुकथा
व्यक्ति चित्र
गीत-नवगीत
दोहे
कविता
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में