वसंत के हस्ताक्षर

15-02-2021

वसंत के हस्ताक्षर

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

टेढ़ी तापड़ी
आँगन में उगी दूब  
गदबदाता बौराता
आम का विरबा
गुनगुनी धूप में
माँ का अचार डालना
पिताजी का पेपर पढ़ना
मेरी पीठ पर
तुम्हारी
वो प्यारी सी च्यूँटी।  
वसंत के हस्ताक्षर सी।
 
शहर की नदी में कम होता पानी
बच्चों के चेहरों पर
उभरते परीक्षा के निशान
ठण्ड में जमी हुई
इच्छाओं के पिघलते सोते
मेहमान परिंदों
के कोकिल कंठ
आँगन में बोगनबेलिया
के फूलों के गुच्छे
वसंत के हस्ताक्षर से लगते हैं।
 
कोरोना के डर को
पीछे छोड़ते ख़ुश चेहरे
उड़ती तितलियाँ
गुनगुनाते भौंरे
टेसू, पलाश
वासंती फूलों से लदे पेड़
मलयज समीर
ऋतु पर वसंत ने कर दिए हैं
अपने हस्ताक्षर।
 
छंदों में लिपटी
वासंती लय
टूटते संयम अनुबंध
महुए की महकती डाली
मन्मथ मदन्त मन
कोंपलों सी फूटती आशाएँ
प्रौढ़ होते तन की
तरुण कामनाएँ
बन जातीं हैं वसंत के हस्ताक्षर।
 
सरसों के फूलों सी
अनगिनित कामनाएँ।
कविताओं में जब
उतरने लगती है
तुम्हारी कमनीय देहयष्टि
तब छंदों में होते हैं
वसंत के हस्ताक्षर।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
लघुकथा
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
दोहे
कविता-मुक्तक
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में