गर्मी की छुट्टी

01-05-2019

गर्मी की छुट्टी

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

मम्मी कच्ची केरी लाओ
उसकी चटनी आप बनाओ।

लाल कलंदर है खरबूज।
मीठा लगता है तरबूज।

आइसक्रीम मँगवाओ मम्मी।
लगती कितनी यम्मी यम्मी।

गर्मी के दिन कितने अच्छे।
नदी नहाएँ पहन के कच्छे।

रंग बिरंगे पहने कपड़े।
दूर पढ़ाई के सब लफड़े।

मम्मी पापा खूब घुमाएँ।
छुट्टी में सबके घर जाएँ।

झूला मेला और चिड़िया घर।
बर्फ़ का गोला खाते मुँह भर।

गर्मी के दिन बहुत सुहाने।
हम बच्चों को लगे लुभाने।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
लघुकथा
व्यक्ति चित्र
गीत-नवगीत
दोहे
कविता
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
बाल साहित्य कविता
कविता-मुक्तक
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में