प्रभु प्रार्थना

15-04-2021

प्रभु प्रार्थना

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

सूचीमुखी छंद 
विधान-
[सगण  मगण]
(। । ऽ    ऽ ऽ ऽ)

प्रति चरण 6 वर्ण, 4 चरण,
दो-दो चरण समतुकांत।
 
सुनलो ओ रामा।
रटता मैं नामा॥
अधमो के नाथा।
चरणों में माथा॥
 
रसना गा श्यामा।
घनश्यामा नामा॥
भज ले रे राधा।
हर ले जो बाधा॥  
 
भज प्यारे भोले।
भव बाधा खोले॥
सच मानो भैया।
शिव ही हैं नैया॥
 
रट आठों यामा।
कर तेरा थामा॥
जग छूटे रामा।
चरणों में धामा॥

 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

गीत-नवगीत
कहानी
कविता
दोहे
कविता-मुक्तक
सामाजिक आलेख
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में