तहस-नहस

01-05-2021

पूरा घर तहस-नहस हो गया दो भाई कारों की चपेट में आ कर स्वर्ग सिधार गए। बड़े भाई और पिता इस गहन दुःख को न झेल पाए और हार्ट अटैक से मृत्यु को प्राप्त हो गए।

पूरे शहर में शोक व्याप्त था।

उस घर की दो महिलाएँ भोजन के पैकेट बना कर अस्पताल के कोरोना वार्ड में मरीज़ों को निःशुल्क पैकेट दे रहीं थीं।

डॉक्टर ने बहुत उदासी से पूछा, "आपके घर में इतना दुःख फिर भी आप लोग मरीज़ों की इतनी सेवा कर रहीं हैं।"

"जी डॉक्टर साहब, जैसे हमारा घर तहस-नहस हुआ है हम नहीं चाहते इनमें से किसी के घर पर ये विपत्ति आये," उन दोनों महिलाओं के आँखों में दर्द के आँसू थे।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
बाल साहित्य कविता
कहानी
कविता
गीत-नवगीत
दोहे
लघुकथा
किशोर साहित्य कविता
नाटक
ग़ज़ल
साहित्यिक आलेख
सामाजिक आलेख
बाल साहित्य लघुकथा
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
किशोर साहित्य नाटक
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में