एक बूँद प्यास

15-02-2021

एक बूँद प्यास

डॉ. सुशील कुमार शर्मा

"आख़िर तुम चाहती क्या हो?"अनिमेष झल्लाया।

"बस यही कि तुम मुझे इंसान समझो कोई उपयोग की वस्तु नहीं," मीता ने सपाट लहजे में कहा।

"उपयोग की वस्तु समझता तो तुम्हारे ऐशो-आराम की हर ज़रूरत पूरी नहीं करता," अनिमेष ने तल्ख़ लहजे में कहा।

"उसके बदले में तुम्हें मेरा शरीर मिला है जिसे तुमने जी भर कर लूटा," मीता के स्वर में दर्द था।

"हिसाब बराबर फिर ये सब शिकायतें क्यों?"अनिमेष के स्वर में हताशा थी।

"सही है शिकायतें तो अपनों से की जाती हैं दुकानदारों से नहीं। "मीता उठी और किचिन में घुस गयी।
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

सामाजिक आलेख
कविता
लघुकथा
बाल साहित्य कविता
गीत-नवगीत
दोहे
कविता-मुक्तक
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
साहित्यिक आलेख
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में