बेटी पर दोहे

01-02-2021

(बालिका दिवस पर)
 
सरिता बेटी एक सी, निर्मल शीतल नेह।
सरिता कुंजों में बहे, बेटी बाबुल गेह।
 
बड़े भाग बेटी मिले, गर्व करें सब बाप।
बेटी पाते ही धुलें, जन्म जन्म के पाप।
 
चिड़ियाँ जैसी बेटियाँ, करतीं घर गुलज़ार।
उड़ जायेंगी एक दिन, सूना बाबुल द्वार।
 
बेटी कुल की रीत है, बेटी जीवन गीत।
शक्ति स्वरूपा दीप है, जीवन का संगीत।
 
कमला, सिंधु, कल्पना, बनी देश अभिमान।
विश्व पटल पर बेटियाँ, ख़ूब दिलाती मान।
 
बिन बेटी सूना चमन, ज्यों सुगंध बिन फूल
बेटी बिन जीवन लगे, मरुथल उड़ती धूल।
 
पाल पोस उपवन किया, आया राजकुमार।
चुपके से वो ले गया, बाबुल का संसार।
 
बेटी धन के रूप में, हर घर लक्ष्मी वास।
बेटी मन की रौशनी, बेटी मन विश्वास।
 
माता पिता की लाड़ली, फिर भी है मेहमान।
भरे हृदय से कर रहा, बाबुल कन्यादान।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता-मुक्तक
गीत-नवगीत
कविता
सामाजिक आलेख
दोहे
बाल साहित्य लघुकथा
लघुकथा
साहित्यिक आलेख
बाल साहित्य कविता
कविता - हाइकु
व्यक्ति चित्र
सिनेमा और साहित्य
कहानी
किशोर साहित्य नाटक
किशोर साहित्य कविता
ग़ज़ल
ललित निबन्ध
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में