तुमको जीवन की
मर्यादा के लिए
उठना होगा।
तुमको मानवता की
उदारता के लिए
फिर से
उस ईश्वर के आगे
झुकना होगा।
तुम्हें असत्य को
हराने के लिए
फिर से
सत्य से जुड़ना होगा।
तुमको मानवता की
रक्षा के लिए
फिर से
हार कर भी जीतना होगा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में