जाने क्यों (राजीव डोगरा ’विमल’)

15-11-2020

जाने क्यों (राजीव डोगरा ’विमल’)

राजीव डोगरा ’विमल’

न जाने क्यों
खो सा गया है कहीं
मेरा मन।
 
न जाने क्यों
मिट्टी सा हो गया है
मेरा तन।
 
न जाने क्यों
टूट गया है,
उनकी याद में
हृदय का हर एक कण।
 
न जाने क्यों
बिखर गए है,
हर ख़्वाब मेरे
फ़िक्र में उनकी हरदम।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें