अकेलापन

01-12-2020

कुछ समझा नहीं आता
क्या हो रहा है
और क्या नहीं हो रहा,
बिगड़े हुए लोगों की तरह
हर जज़्बात
बिगड़ गया हैं,
बिखरे हुए ख़्वाबों की तरह
हर रिश्ता
बिखर गया है,
सँभालने की कोशिश तो बहुत की
टूटते हुए हर पल को
मगर समय की तराजू में
सब कुछ
ख़ुद ही तुलता चला गया।
कोई अपना पराया बना
तो कोई पराया अपना बना
मगर समय की दरारों में
हर कोई फ़ासले भरता हुआ
चलता चला गया।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें