मैं समय हूँ 

01-02-2020

मैं समय हूँ 

राजीव डोगरा ’विमल’

मैं समय हूँ 
फिर लौट कर आऊँगा 
सब ग़मों को चीरकर 
और ख़ामोशी से सबको 
चुप करवा जाऊँगा।


मैं समय हूँ
सब जानता हूँ 
इसीलिए घबराता नहीं 
चुपचाप सुनता हूँ 
किसी को सुनाता नहीं। 


मैं समय हूँ 
बीत कर भी मैं 
फिर वापस भी आ जाता हूँ 
और जब आता हूँ
तो सब कुछ 
अच्छा बुरा दिखा जाता हूँ। 


मैं समय हूँ
कभी रुकता नहीं 
थकता भी नहीं 
फिर भी सब कुछ 
बदल देता हूँ
अपने आग़ोश में। 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें