क्षितिज

01-07-2020

जीवन क्षितिज के अंत में 
मिलूँगा फिर से तुमको,
देखना तुम
मैं कितना बदल सा गया हूँ
मिलकर तुमको।


जीवन क्षितिज के अंतिम 
छोर में देखना
मेरे ढलते जीवन की 
परछाई को,
कितनी बिखर सी गई है
मिलकर तुमको।


जीवन क्षितिज के अंत में 
देखना मेरी 
डगमगाती साँसों को,
कितना टूट सी गई है 
मिलकर तुमको।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें