किसी ओर से

01-03-2021

मुझे किसी ओर से
इश्क़ करने की ज़रूरत नहीं है 
मैं तुमसे ही 
मोहब्बत करता रहूँगा।
 
मुझे किसी ओर के
जिस्म को छूने की तलब नहीं है
मैं तेरी रूह को छूकर ही 
सुकून लेता रहूँगा।
 
मुझे किसी ओर से 
दिल लगाने की ज़रूरत नहीं 
अपने सीने में ही तुम्हारी धड़कनों को
सुन मुस्कुराता रहूँगा।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें