सोचकर तुमको
लिखता हूँ अपने जज़्बात,
न चाहते हुए भी
टूट कर चाहता हूँ
तुमको हर बार।
 
सोच में मेरी
तुम हर पल ही रहे
मेरे पास।
पर जीवन पंथ में,
सुनकर औरों के बोल
हटते रहे तुम
मुझसे हर बार।
 
गला घोट कर भी
अपनी ख़्वाहिशों का,
करता रहा तुमसे
मोहब्बत दिन और रात।
पर देखकर तुम
औरों की हँसी
दिल दुखाते रहे
मेरा हर बार।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें