हिंदी हमारी माँ: हिंदी दिवस के अवसर पर डॉ. हरिश नवल जी के परिवार से एक बातचीत
हिंदी हमारी माँ: हिंदी दिवस के अवसर पर डॉ. हरिश नवल जी के परिवार से एक बातचीत

..

साहित्य कुञ्ज के इस अंक में

कहानियाँ

अनोखी चाहत 

मई का महीना था। गर्मी के असहनीय दिनों की शुरूआत हो गई थी। आसमान से सूरज मानो आग के गोलों की बौछार कर रहा था। आजकल तो मौसम भी बहुत आलसी-सा जान पड़ता था। गर्मी के ये दिन अक्सर यूँ आगे पढ़ें


कंगन 

जिज्ञासा मानव की भावना ही नहीं, उसकी शक्ति भी होती है। ऐसी शक्ति, जो यदि जागृत हो जाये तो मानव असंभव को संभव कर देता है, इतिहास रच देता है, अकल्पित को सत्य में परिवर्तित कर देता है। और यदि आगे पढ़ें


कैसे हाशिए?

जैसे ही समीरा लंच से लौट कर आई उसके सेल फोन पर एक मैसेज आया। मैसेज को पढ़ते ही उसके चहेरे पर परेशानी की लकीरें उभरने लगीं। “माँ की तबीयत बहुत ख़राब है मेल देखते ही तुरन्त चली आना” तुम्हारी आगे पढ़ें


बाँसुरी

वह युवा था, उत्साह और उमंग से भरपूर और बहुत महत्वाकांक्षी भी। वैसे इस उम्र में तो आमतौर पर  सभी ऐसे ही होते हैं लेकिन वह थोड़ा अलग क़िस्म का इसलिए था क्योंकि संगीत से उसे बहुत प्रेम था। इतना आगे पढ़ें


टॉप का सौदा

सर्दी की खिली धूप की मादकता का लुत्फ़ उठाता बबलू दुकान के मुहाने पर खड़ा कॉलेज जाती बालाओं को घूर रहा है। अभी-अभी खैनी मथकर उसने ऊपर के होंठ के नीचे दबाई है। जब खैनी का सुरूर उसके दिमाग़ में आगे पढ़ें


ग़रीब की जुगत

सात-आठ बरस का वह कमज़ोर सा बालक सड़क के बीचों-बीच था। तेज़ रफ़्तार गाड़ियों की हेडलाइट की तीव्र रोशनी से या डर से बीच में ही बेहोश होकर गिरा तो एक गाड़ी उसे बचाते-बचाते भी उसके बहुत क़रीब आकर रुकी। आगे पढ़ें


झूठी शान

यह कहानी किन्ही राजा-रानी की नहीं, जो घोड़े पर बैठ कर युद्ध करते और फिर किसी ऋषि-मुनि के आश्रम में जा कर वरदान माँगते। नहीं, यह कहानी किसी बंदर-भालू की भी नहीं जो शेर की जगह अपना राजा किसी और आगे पढ़ें


हास्य/व्यंग्य

आह प्रदूषण! वाह प्रदूषण!!

इस दिल्ली ने आजकल नाक में धुआँ दे रखा है। साँस में धुआँ दे रखा है। हे दिल्ली तू भी न! क्या दिन आ गए आजकल! सबको सुरक्षा देने वाली बेचारी पुलिस सुरक्षा माँग रही है। सबको न्याय दिलाने वाले आगे पढ़ें


कुत्ता ध्यानासन

(व्यंग्य संग्रह - अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो से साभार)   अंतरराष्ट्रीय योग दिवस के प्रचार पोस्टर में विभिन्न योग मुद्रायें देखकर इस सरकारी मोहल्ले के श्वानों के कान खडे़ हो गये थे। उन्हें शायद ये महसूस हुआ कि उनका पेटेंट कोई आगे पढ़ें


तो क्यों धन संचय

हाल ही में एक ट्वीट ने काफ़ी सुर्खियाँ बटोरीं -  "पूत कपूत तो क्यों धन संचय पूत सपूत तो क्यों धन संचय" जिसमें अमिताभ बच्चन साहब ने सन्तान के लिये धन एकत्र ना करने का संदेश या उपदेश दिया है। आगे पढ़ें


आलेख

लेखन प्रतिभा की धनीः डॉ शैलजा सक्सेना

डॉ. शैलजा सक्सेना का नाम हिंदी समाज प्रेमियों के बीच बहुआयामी व्यक्तित्व से भरी कवयित्री, कहानीकार, निर्देशिका और मझी साक्षात्कारा के रूप में चर्चित है। भारत के एक प्रसिद्ध विश्वविद्यालय में अध्ययन-अध्यापन करने के उपरान्त कनाडा में रची-बसी डॉ. शैलजा आगे पढ़ें


समीक्षा

उपकार का दंश – मानवीय करुणा दर्शाती कहानियाँ

पुस्तक : उपकार का दंश लेखिका : डॉ. करुणा पांडे प्रकाशक : आधारशिला प्रकाशन, नैनीताल मूल्य : रु. 250  पृष्ठ : 168 डॉ. करुणा पांडे का नवीनतम कहानी संग्रह “उपकार का दंश”अपनी पंद्रह कहानियों के माध्यम से सामाजिक यथार्थ को आगे पढ़ें


कुछ गाँव गाँव, कुछ शहर-शहर

उपन्यास : कुछ गाँव गाँव, कुछ शहर-शहर लेखिका : नीना पॉल प्रकाशक : हिन्दी समय  लिंक : कुछ गाँव गाँव, कुछ शहर-शहर ‘कुछ गाँव गाँव, कुछ शहर-शहर’ ब्रिटेन की हिन्दी कहानीकार, ग़ज़लकार, उपन्यासकार नीना पॉल का तीसरा उपन्यास है। इससे आगे पढ़ें


संस्मरण

सत्य पर मेरे प्रयोग: महात्मा गांधी जी की आत्मकथा: भाग -3 : पतित्व

जिन दिनों मेरा विवाह हुआ, उन दिनो निबंधों की छोटी-छोटी पुस्तिकाएँ - पैसे-पैसे या पाई-पाई की, सो तो कुछ याद नहीं - निकलती थीं। उनमे दंपती-प्रेम, कमखर्ची, बालविवाह आदि विषयों की चर्चा रहती थी। उनमें से कुछ निबंध मेरे हाथ आगे पढ़ें


प्लेन में पानी ले जाने की मनाही

हमारी नतिनी करीना ५ वर्ष की उम्र में अपनी मम्मी के साथ एल.ए. जा रही थी। प्लेन पर चढ़ने से पहले उसकी मम्मी उसको बार-बार वाशरूम जाने के लिए कह रही थी। इच्छा न होते हुए भी उसे वाशरूम जाना आगे पढ़ें


बच्चे की दूरदर्शिता

उन दिनों हमारा छः वर्षीय बेटा अनुज डेकेयर जाया करता था। तभी हमारे एक मित्र सपरिवार कुछ दिनों के लिए हमारे घर ठहरे। उनके समवयसी बेटे के साथ अनुज की अच्छी दोस्ती हो गयी थी। जिस दिन वे लोग टोरोंटो आगे पढ़ें


दुनिया की छत - 4 : गूँगे केरी सर्करा

दुनिया की छत - 4 : गूँगे केरी सर्करा

हमारी ट्रेन गॉथनबर्ग सेंट्रल स्टेशन से सुबह छः बजे छूटने वाली है। उसे पकड़ने के लिए पाँच बजे की ट्राम लेनी है। स्टॉकहोम के लिए ट्रेन और होटल की बुकिंग बृजेश पहले ही कर चुके हैं। रात को ही अपना आगे पढ़ें


पूर्व और पश्चिम का सांस्कृतिक सेतु ‘जगन्नाथ-पुरी’: यात्रा-संस्मरण - 3

बेहेरा साहब की लोक-कथा सुनकर जगन्नाथ पूजा की प्रारंभिक चेतना के बारे में ज्ञान हुआ, मगर अचानक नीले पत्थर की एक प्रतिमा तीन अपाद-अहस्त के स्वरूप में कैसे बदल गई?  इस प्रश्न पर सरोजिनी जी ने प्रकाश डाला, "बेहेरा साहब आगे पढ़ें


कविताएँ

शायरी

समाचार

साहित्य जगत - कैनेडा

शिशिर की एक शाम, नृत्य-नाट्योत्सव के नाम

शिशिर की एक शाम, नृत्य-नाट्योत्सव के नाम

23 Nov, 2019

हिन्दी राइटर्स गिल्ड का 11वां वार्षिकोत्सव   नवंबर 17, 2019 मिसीसागा -  टोरोंटो में पिछले ग्यारह वर्षों से अपने एक…

आगे पढ़ें
शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

25 Oct, 2019

१९ अक्तूबर २०१९—हिन्दी राइटर्स गिल्ड की मासिक गोष्ठी ब्रैम्पटन लाइब्रेरी के सभागार में संपन्न हुई। पतझड़ के मोहक रंगों से…

आगे पढ़ें
हिन्दी हैं हम, चाहे, कोई वतन हमारा…..

हिन्दी हैं हम, चाहे, कोई वतन हमारा…..

28 Sep, 2019

हिन्दी राइटर्स गिल्ड ने 14 सितम्बर 2019 को अपनी मासिक गोष्ठी में ‘हिंदी दिवस’ का सुन्दर आयोजन किया। यह कार्यक्रम…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - भारत

विश्वरंग – भोपाल में भव्य और सार्थक महोत्सव

विश्वरंग – भोपाल में भव्य और सार्थक महोत्सव

28 Nov, 2019

4 से 10 नवंबर के बीच भोपाल में टैगोर अंतरराष्ट्रीय साहित्य एवं कला महोत्सव का भव्यतम आयोजन हुआ। हिंदी को…

आगे पढ़ें
क्षितिज अखिल भारतीय लघुकथा सम्मेलन 2019, इंदौर

क्षितिज अखिल भारतीय लघुकथा सम्मेलन 2019, इंदौर

28 Nov, 2019

कोई भी कला संयम और समय के साथ ही विकसित होती है - सुकेश साहनी ‘क्षितिज’ संस्था, इंदौर द्वारा द्वितीय…

आगे पढ़ें
अवनीश सिंह चौहान को 'बाबूसिंह स्मृति साहित्यरत्न सम्मान'

अवनीश सिंह चौहान को 'बाबूसिंह स्मृति साहित्यरत्न सम्मान'

27 Nov, 2019

मथुरा : रविवार, 24 नवम्बर 2019 को आलोक पब्लिक स्कूल, पंचवटी कॉलोनी, मथुरा के सभागार में बरेली इंटरनेशनल यूनिवर्सिटी, बरेली…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - विदेश

साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला पाठ्यक्रम में 

साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला पाठ्यक्रम में 

16 Sep, 2019

सुपरिचित कुंडलियाकार एवं साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला की रचनाओं​ को XSEED Education की पाठ्य-पुस्तकों में सम्मिलित किया गया है ।…

आगे पढ़ें
कहानी-पाठ एवं चर्चा - उर्मिला जैन का संग्रह ’मोन्टाना’ और कमला दत्त का ’अच्छी औरतें’

कहानी-पाठ एवं चर्चा - उर्मिला जैन का संग्रह ’मोन्टाना’ और कमला दत्त का ’अच्छी औरतें’

21 Jul, 2019

लंदन, 17 जुलाई 2019 – वातायन पोएट्री ऑन साउथ बैंक द्वारा नेहरु सेंटर-लंदन में एक विशेष साहित्यिक समारोह का आयोजन…

आगे पढ़ें
वियतनाम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय हिन्दी उत्सव में डॉ. रवीन्द्र प्रभात के नेतृत्व में हिस्सा लिया 55 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने

वियतनाम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय हिन्दी उत्सव में डॉ. रवीन्द्र प्रभात के नेतृत्व में हिस्सा लिया 55 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने

6 Jun, 2019

भारतीय महावाणिज्य दूतावास हो ची मिन्ह सिटी वियतनाम, भारतीय व्यापार कक्ष वियतनाम और प्रमुख भारतीय संस्था परिकल्पना के संयुक्त तत्वावधान…

आगे पढ़ें
  • विडिओ

  • ऑडिओ