• विशेषांक

    दलित साहित्य
    दलित साहित्य दलित साहित्य और उसके होने की ज़रूरत डॉ. शैलजा सक्सेना दलित साहित्य उस समाज की सच्चाई से.. आगे पढ़ें
बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉक्टर हरीश नवल जी से एक मुलाक़ात
साहित्य के रंग शैलजा के संग - बहुमुखी प्रतिभा के धनी डॉक्टर हरीश नवल जी से एक मुलाक़ात

साहित्य कुञ्ज के इस अंक में

कहानियाँ

अभियान

‘पॉलिथिन हटाओ, शहर को स्वच्छ बनाओ’ शहर की प्रमुख समाजसेवी संस्था बैनर लेकर मार्च पास्ट कर रही थी। एक बड़े चौराहे पर ट्रैफ़िक रोक दिया गया अध्यक्ष ने भाषण दिया, "पॉलिथिन का प्रयोग कर हम आत्महत्या की ओर बढ़ रहे आगे पढ़ें


गीदड़-गश्त

किस ने बताया था मुझे गीदड़, सियार, लोमड़ी और भेड़िये एक ही जाति के जीव ज़रूर हैं मगर उनमें गीदड़ की विशेषता यह है कि वह पुराने शहरों के जर्जर, परित्यक्त खंडहरों में विचरते रहते हैं? तो क्या मैं भी आगे पढ़ें


चाची

'गंगा पास्ड अवे . . .' ई-मेल की अगली पंक्ति धुँधला गई। टप्प! टप्प! आँसू निकलने के पहले सीने में एक ऐसा तेज़ खरोंचता-सा दर्द हुआ कि मैं तड़पकर रह गई। आज चाची मुक्त हो गईं। हाँ, मुक्त हो गईं। आगे पढ़ें


चित-पट

एक बहुत व्यस्त सड़क के किनारे बना फुटपाथ काफ़ी ऊँचा था सड़क से। सड़क के उस हिस्से को पार करना जितना ख़तरनाक फुटपाथ के नीचे से  था उतना ही मुश्किल उसके ऊपर से चढ़कर जाना था। जब भी कोई निकलता आगे पढ़ें


मैं ऑटो वाला और चेतेश्वरानंद – 1

दुष्यंत ने ऑटो रिक्शा चलाना तब से शुरू कर दिया था जब वह क़ानूनी रूप से बालिग़ भी नहीं हो पाया था। ऐसे में जब भी ट्रैफ़िक पुलिस द्वारा पकड़ा जाता तो तुरंत जितने रुपए उसके पास होते वह फट आगे पढ़ें


सज़ा

कालू बड़ी देर से मन्दिर के अहाते के बाहर गुमसुम बैठा था। अहाते के फाटक के पास जूते-चप्पल सहेजने की कोटरें थीं। वहीं से कोमल हरी दूब की पगडण्डी नलों की क़तार की ओर जाती थी, जिसके आगे पैर धोने आगे पढ़ें


हास्य/व्यंग्य

आँकड़े यमराज के

यमराज की कोरोना लिस्ट चित्रगुप्त की लापरवाही से मुझे लीक हो गई। समूचे संसार के डाटा से, क्षुद्र– इंडिया के डाटा को, अलग कर पाना यूँ तो नामुमकिन था मगर देहाती कम्पूयटर मास्टर के सिखाए कुछ गुरु मंत्रों ने काम आगे पढ़ें


गर्दभ कैबिनेट हेतु बुद्धिजीवी विमर्श

ज्यों ही सुबह सुबह अख़बार के माध्यम से गर्दभों के नवनिर्वाचित बुद्धिजीवी प्रकोष्ठ के प्रधान को पता चला कि सरकार कूड़े के ढेरों के पास असरी-पसरी गायों की रक्षा के लिए गौ कैबिनेट की स्थापना कर गायों  के बहाने अपनों आगे पढ़ें


आलेख

प्रकृति और हम

वो दोस्ती हो, मुहब्बत हो, चाहे सोना हो। कसौटियों पे परखना ज़रूर पड़ता है॥  मुनव्वर राना का उपर्युक्त शेर हर चीज़ को कसौटी पर परखने की बात करता है, क्योंकि बिना जाँचे-परखे किसी भी चीज़ की प्रामाणिकता सिद्ध नहीं होती। आगे पढ़ें


मूल्यनिष्ठ समाज की संस्थापक – नारी

“स्वतंत्र भारत में नारी को मिले वैधानिक अधिकारों की कमी नहीं – अधिकार ही अधिकार मिले हैं। परंतु कितनी नारियाँ हैं जो अधिकारों का सुख भोग पाती हैं? आप अपने कर्तव्य के बल पर अधिकार अर्जित कीजिए। कर्तव्य, अधिकार दोनों आगे पढ़ें


समीक्षा

एक कलाकार की मौत - डॉ. रानू मुखर्जी

कहानी: एक कलाकार की मौत कहानीकार: डॉ. रानू मुखर्जी समीक्षा: डॉ. शोभा श्रीवास्तव   डॉ. रानू मुखर्जी की यह कहानी उनकी लेखन क्षमता की उत्कृष्टता को प्रदर्शित करती है। अंत तक ऐसा लगता है जैसे रानू जी स्वयं कहानी सुना आगे पढ़ें


एक चींटे का फ़्लर्ट - अनीता श्रीवास्तव

कहानी: एक चींटे का फ़्लर्ट कहानीकार: अनीता श्रीवास्तव समीक्षा: डॉ. शोभा श्रीवास्तव   अनीता श्रीवास्तव जी की दो कहानियाँ पढ़ने का अवसर मिला। अनीता जी अपनी कहानियों में पात्रों के माध्यम से जिस गहराई के साथ मनोभावों को प्रस्तुत करती आगे पढ़ें


कुंठा - अनीता श्रीवास्तव

कहानी: कुंठा कहानीकार: अनीता श्रीवास्तव समीक्षा: डॉ. शोभा श्रीवास्तव    अनीता श्रीवास्तव द्वारा लिखित कहानी 'कुंठा' मनोविश्लेषण पर आधारित एक बेहतरीन कहानी है। वर्तमान सुविधा भोगी समाज में मनुष्य अपनी निजता में इस क़दर डूब चुका है कि उसे अपनी आगे पढ़ें


कुछ तो कहो गांधारी

कुछ तो कहो गांधारी

समीक्षित उपन्यास: कुछ तो कहो गांधारी लेखक: डॉ. लोकेन्द्र सिंह कोट प्रकाशक: कलकार मंच, दुर्गापुरा, जयपुर, राजस्थान पृष्ठ संख्या: 94 मूल्य: 150 रु. लेखक प्रकाशक परिचय  ‘कुछ तो कहो गन्धारी‘ उपन्यास के रचयिता डॉक्टर लोकेन्द्र सिंह कोट हैं। १८ फरवरी आगे पढ़ें


संस्मरण

मृदुला सिन्हा : स्मृतियों के झरोखों में

"आँख नम और हृदय बोझिल शब्द कहाँ से लाऊँ”   अधिक दिन नहीं हुए। पिछले वर्ष की ही तो बात है। मैंने आवश्यक कार्य हेतु उन्हें फोन किया था। कुछ काम की बात करनी थी। बात ख़त्म होने के बाद आगे पढ़ें


कविताएँ

शायरी

समाचार

साहित्य जगत - कैनेडा

विश्वरंग 2020 - कैनेडा  सत्र नवम्बर 07

विश्वरंग 2020 - कैनेडा सत्र नवम्बर 07

29 Nov, 2020

रिपोर्ट- आशा बर्मन  कैनेडा के हिंदी-प्रेमियों के लिए 7 नवम्बर 2020 एक अविस्मरणीय दिन रहेगा। इसी दिन पहली बार कैनेडा…

आगे पढ़ें
शिशिर की एक शाम, नृत्य-नाट्योत्सव के नाम

शिशिर की एक शाम, नृत्य-नाट्योत्सव के नाम

23 Nov, 2019

हिन्दी राइटर्स गिल्ड का 11वां वार्षिकोत्सव   नवंबर 17, 2019 मिसीसागा -  टोरोंटो में पिछले ग्यारह वर्षों से अपने एक…

आगे पढ़ें
शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

25 Oct, 2019

१९ अक्तूबर २०१९—हिन्दी राइटर्स गिल्ड की मासिक गोष्ठी ब्रैम्पटन लाइब्रेरी के सभागार में संपन्न हुई। पतझड़ के मोहक रंगों से…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - भारत

कविता संग्रह 'नक्कारखाने की उम्मीदें' का ऑन लाइन लोकार्पण/समीक्षा संगोष्ठी

कविता संग्रह 'नक्कारखाने की उम्मीदें' का ऑन लाइन लोकार्पण/समीक्षा संगोष्ठी

27 Jul, 2020

सुपेकर की कविताएँ पूर्वाग्रह मुक्त कविताएँ - श्री सतीश राठी नगर की प्रमुख साहित्यिक संस्था क्षितिज के द्वारा श्री संतोष…

आगे पढ़ें
’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ पुस्तक को ’इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्डस’ द्वारा मान्यता

’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ पुस्तक को ’इंडिया बुक ऑफ़ रिकार्डस’ द्वारा मान्यता

13 Jul, 2020

सुदर्शन सोनी द्वारा लिखी पुस्तक ’अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो’ एक ऐसा व्यंग्य संग्रह जिसके सभी 34 व्यंग्य केवल कुत्तों…

आगे पढ़ें
अनिल शर्मा केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल के नए उपाध्यक्ष 

अनिल शर्मा केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल के नए उपाध्यक्ष 

30 Jun, 2020

27 जून 2020 (भारत): मानव संसाधन विकास मंत्रालय, भारत सरकार ने अनिल कुमार शर्मा को केंद्रीय हिंदी शिक्षण मंडल का…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - विदेश

वातायन के इतिहास में एक शानदार सम्मान-समारोह

वातायन के इतिहास में एक शानदार सम्मान-समारोह

25 Nov, 2020

डॉ. रमेश पोखरियाल 'निशंक’ और श्री मनोज मुंतशिर वातायन-यूके द्वारा सम्मानित   लंदन, 21 नवंबर 2020: वातायन का वार्षिक समारोह…

आगे पढ़ें
तेजेन्द्र शर्मा के कविता संग्रह ‘टेम्स नदी के तट से’ का लोकार्पण नेहरू सेन्टर लंदन के मंच से...

तेजेन्द्र शर्मा के कविता संग्रह ‘टेम्स नदी के तट से’ का लोकार्पण नेहरू सेन्टर लंदन के मंच से...

29 Sep, 2020

• कथा यू.के. संवाददाता भारतीय उच्चायोग लंदन, नेहरू सेन्टर लंदन एवं एशियन कम्यूनिटी आर्ट्स ने एक साझे कार्यक्रम में तेजेन्द्र…

आगे पढ़ें
ढींगरा फ़ैमिली फ़ाउण्डेशन, अमेरिका द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कथा सम्मान तथा शिवना प्रकाशन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कथा-कविता सम्मान घोषित

ढींगरा फ़ैमिली फ़ाउण्डेशन, अमेरिका द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कथा सम्मान तथा शिवना प्रकाशन द्वारा अंतर्राष्ट्रीय कथा-कविता सम्मान घोषित

28 May, 2020

(सभी सम्मान लेखिकाओं को) ममता कालिया, उषाकिरण ख़ान, अनिलप्रभा कुमार, प्रज्ञा, रश्मि भारद्वाज तथा गरिमा संजय दुबे होंगे सम्मानित ढींगरा…

आगे पढ़ें

फीजी का हिन्दी साहित्य

साहित्यकुञ्ज पत्रिका ’फीजी का हिन्दी साहित्य’ विषय पर नवंबर में विशेषांक प्रकाशित करने वाली हैं। उद्देश्य यह है कि फीजी की सांस्कृतिक और हिन्दी की साहित्यिक संपदा पाठकों के सामने रख सकें। हमारा फीजी के लेखकों और फीजी से जुड़े सभी लोगों से सादर आग्रह है कि आप अपनी कविताएँ, कहानियाँ, साहित्यिक लेख, संस्मरण, ऐतिहासिक और सांस्कृतिक पृष्ठभूमि आदि साहित्यकुंज पत्रिका के लिए भेजियेगा। साहित्यकुंज पत्रिका के संपादक हैं: सुमन कुमार घई। इस विशेषांक की संपादक हैं: डॉ. शैलजा सक्सेना; सह-संपादक: सुभाषिणी लता कुमार (लौटुका, फीजी) ये रचनाएँ अक्तूबर 18, 2020 तक अवश्य भेज दीजिए। कृपया इन रचनाओं को आप इन ई-मेल पतों पर भेजिए: shailjasaksena@gmail.com sampadak@sahityakunj.net
  • विडिओ

  • ऑडिओ