अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 14, अंक 125,  दिसम्बर अंक, 2018
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; शायरी संपादक:- अखिल भंडारी
संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  नवगीत  |  शायरी  |  कहानी  |  लघु-कथा  |  सांस्कृतिक-कथा  |  आपबीती  |  आलेख  |  महाकाव्य  |
हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  बाल साहित्य  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  शोध निबन्ध |  साहित्यिक-चर्चा  |  लेखक  |  शायर  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  | साक्षात्कार  |  संपादकीय |
इस अंक में  |  पुराने अंक 

संपादकीय हिन्दी टाईपिंग रोमन या देवनागरी और वर्तनी

चन्द्र बिन्दु का प्रचलन ही लुप्त होता जा रहा है। ड़ या ढ़ के नीचे बिन्दी लगाने में सुस्ती दिखाई देती है। में अब मे बन चुका है और नहीं, नही हो चुका है। गत कुछ वर्षों से यह सुन रहा हूँ कि लोग अब बोल भी वही रहे हैं जो वह लिख रहे हैं। पूरा पढ़ें -

आपके पत्र - शुद्ध लेखन युक्तियाँ - पुस्तक बाज़ार.कॉम -
-
इस अंक के पत्र -

हिन्दी व्याकरण -   

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
भारतकोश
हिन्दी साहित्य\
कविता का व्याकरण एवं छंद - भारतकोश
हिन्दी व्याकरण वीकिपीडिया
पूर्ण विराम के बाद एक स्पेस या डबल स्पेस


हिन्दी की ई-पुस्तकें खरीदने और प्रकाशित करवाने के लिए कृपया नीचे दिये लिंक पर क्लिक करें: pustakbazaar.com
इस अंक की कहानियाँ -
साँवले सजन- एक प्रेम कथा
शंकर सिंह सेन "निलय"
गुनाहों की दुनिया में
प्रो. बी.डी. इन्दु
अनिमेष
डॉ. अनामिका गुरू रिछारिया
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - कहानी - सांस्कृतिक-कथा -
पत्नी का अविश्वास प्रस्ताव - सुशील यादव
आलसस्य परम सुखम्‌ - अमित शर्मा

डेज़ी की कमर्शियल आत्मकथा - डॉ. अशोक गौतम
आर्दश आचार संहिता - सुदर्शन कुमार सोनी
बँटखरे - राजीव कुमार
बाल साहित्य - लघु कथा -  साक्षात्कार-
सरदी के दिन, चलो मंगल ग्रह में - डॉ. प्रमोद सोनवानी ‘पुष्प’
आख़िरी सलाम (कहानी) - संजीव जायसवाल ‘संजय’

छुआछूत, जानवरीयत, निर्भर आज़ादी - डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी
बीमा पॉलिसी बनाम हथकंडे - निर्मल सिद्धू


विपरीत परिस्थितियाँ ही लिखने को विवश करती हैं - कान्ता राय

ओमप्रकाश क्षत्रिय ‘प्रकाश’
परिचर्चा - शोध निबन्ध -   शोध निबन्ध -  
हिन्दी साहित्य के पाठक कहाँ हैं?
(
इस विषय पर आप सभी के विचार आमंत्रित हैं)
इस अंक में - धर्म जैन, समीक्षा तैलंग, अमिताभ वर्मा, अंजना वर्मा, मधु शर्मा
कालजयी साहित्यकार डॉ. रामविलास शर्मा - दिलीप कुमार झा
केदारनाथ सिंह की कविताओं में बदलते मानवीय संबन्धों का स्मृति चिह्न - महेश एस.

इतिहास और जातीयता के विषय में आचार्य शुक्ल और डॉ. रामविलास शर्मा की मान्यताएँ - अश्विनी कुमार लाल
आलेख - आलेख - अनूदित साहित्य
अन्तर्जाल पर हिन्दी भाषा एवं उसके प्रयोग की समस्याएँ
डॉ. हरेन्द्र सिंह
ऋतुओं के राजा वसंत एवं हिन्दी साहित्य
डॉ. छोटे लाल गुप्ता
गुजराती कहानी का हिंदी अनुवाद
मंगलसूत्र
मूल लेखक: किशनसिंह चावड़ा
अनुवादक: डॉ. रजनीकान्त शाह
कविताएँ - शायरी -
जब नियति परीक्षा लेती है, मैं भला नहीं, चुप रहो, बदरी बहुत घनी है - अमरेश सिंह भदौरिया
दर्द में बसा सुकून, एक सवाल और उसका जवाब - साधना सिंह
इस पल है जीवन, डेंगू, अद्वैत का रूप - उत्तम टेकड़ीवाल
नंद की वेदना - लवनीत मिश्र

मानव स्वभाव - अजय अमिताभ सुमन
रूपस्वामिनी, स्वप्नप्रिया - कवि भरत त्रिपाठी
कैमरा, लाईटर, स्वैटर, पेन - डॉ. मनीषकुमार सी. मिश्रा
दूसरी औरत से प्रेम, बिनब्याही, सरकारी दस्तावेज़ों में थर्ड जेंडर हूँ - अपर्णा बाजपेई

क़लम घिसाई - निर्मल सिद्धू
घुटन, जननायक - संतोष पटेल
चाँद-चकोर, वेदना का पक्ष, प्रेम-संदेश - संजय वर्मा "दृष्टि"

तरही ग़ज़ल अंतरजाल सम्मेलन
अखिल भंडारी
ग़ज़ल लिखने की कार्याशाला में भाग लें
हमेशा दोष मेरा ही रहा है - मानोशी चैटर्जी
तसव्वुर का नशा गहरा हुआ है - महावीर उत्तरांचली
ज़माने में धुँआ कैसा हुआ है - डॉ. अनिल चड्डा
किनारे पर खड़ा क्या सोचता है

अखिल भंडारी
यही मेरी मुहब्बत का सिला है
मोहन जीत ’तन्हा’

दरीचा था न दरवाज़ा था कोई - अखिल भंडारी
आपसे बात मेरी जो बनने लगी - निर्मल सिद्धू
नवगीत - नवगीत - नवगीत समीक्षा
कलियों का अनुप्रास, कितने सूरज, मुटुरी मौसी -  शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’    
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

भावों का इन्द्रजाल:घुँघरी
डॉ. सुरंगमा यादव

वर्तमान के सच में भविष्य का अक्स
विजय प्रकाश मिश्रा

समाज, साहित्य और भाषा के संवर्द्धन के विचारों का संग्रह
बृजेन्द्र कुमार अग्निहोत्री
यात्रा संस्मरण - यात्रा संस्मरण - नाटक -

कनाडा डायरी के पन्ने
25_पितृ-दिवस

सुधा भार्गव

पास बुलाते चीड़-देवदार

 डॉ. आरती स्मित
 
साहित्यिक समाचार -

 


ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ में पुस्तकों का प्रकाशन
धारावाहिक रूप में होगा)
संकलन -
 
शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय-
7 8 9 10
महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
विचारों का वृन्दावन वन! (साउंड क्लाऊड)
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्यसुधा
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada