कविता का मंच बनाम मंच की कविता: एक बैठक प्रसिद्ध कवि श्री आलोक श्रीवास्तव जी के साथ - साहित्य के रंग
कविता का मंच बनाम मंच की कविता: एक बैठक प्रसिद्ध कवि श्री आलोक श्रीवास्तव जी के साथ - साहित्य के रंग

..

साहित्य कुञ्ज के इस अंक में

कहानियाँ

आतंकी राजा कोरोना

राज-काज के लिए प्रतिदिन की तरह आज भी देवनपुर के राजा और महामंत्री की मन्त्रणा चल रही थी। "मंत्री जी कुछ दिनों से मैं देख रहा हूँ कि  नगर में  सब कुछ ठीक सा नहीं लग रहा  है; क्या कारण आगे पढ़ें


ऊँट की पीठ

“रक़म लाए?” बस्तीपुर के अपने रेलवे क्वार्टर का दरवाज़ा जीजा खोलते हैं। रक़म, मतलब, साठ हज़ार रुपए..... जो वे अनेक बार बाबूजी के मोबाइल पर अपने एस.एम.एस. से माँगे रहे..... बाबूजी के दफ़्तर के फ़ोन पर गिनाए रहे..... दस दिन आगे पढ़ें


एबॉन्डेण्ड - 4

बाथरूम से वापस पहुँच कर दोनों फिर अपनी जगह बैठ गए हैं। लेकिन पहले की अपेक्षा अब शांत हैं। थकान और नींद का असर अब दोनों पर दिख रहा है। ये ना हावी हो यह सोचकर युवती कह रही है। आगे पढ़ें


कालमुखी

(गुजराती कहानी का हिन्दी अनुवाद) मूल लेखक: डॉ.शरद ठाकर अनुवादक: डॉ.रजनीकान्त एस.शाह  सेठ ज्वालाप्रसाद के बँगले में अभी नाटकीय दृश्य खेला जा रहा था। एकमेव जवान बेटे मन्वंतर ने मात्र इतना ही कहा, "पप्पा! मैंने एक लड़की पसंद कर ली आगे पढ़ें


गहराई और तन्हाई

गहरी नदी के शांत जल में नाव पर राकेश ध्यान मग्न बैठा हुआ था। चप्पुओं की हल्की-हल्की आवाज़ आ रही थी और नाव वाला कुछ गुनगुना रहा था। नाव वाले ने पूछा, "कहाँ खोए हो बाबू जी? भौजाई की याद आगे पढ़ें


नंदन वन में कोरोना 

एक बार की बात है, नंदन वन में एक ऐसी बीमारी फैल गई जिसका कोई इलाज न था। वन में बहुत सारे पशु पक्षी मारे गये। उसी जंगल में एक बड़ा हॉस्पिटल था जिसका नाम चम्पक चिकित्सालय था। वहाँ के आगे पढ़ें


नालायक़ बेटा

रामानंद बाबू को अस्पताल में भर्ती हुए आज दो महीने हो गये। वे कर्क रोग से ग्रसित हैं। उनकी सेवा-सुश्रुषा करने के लिए उनका सबसे छोटा बेटा बंसी भी उनके साथ अस्पताल में ही रहता है। बंसी की माँ को आगे पढ़ें


पाँचवीं दीवार

राजनीति की सभा में आज समता सुमन जी का पहला दिन था। कुंकुम-गुलाल उड़ाते हुए भारी-भरकम फूलों का हार पहनाकर उन्हें अपनी कुरसी पर विराजित किया गया था। बड़ा-सा सजा-सजाया मंच था और मंच के सामने थे असंख्य लोग। इसके आगे पढ़ें


मज़ाक

"देखो तो!" मधुरिमा बोली। "क्या?" विनीत ने पूछा। "तुम्हारे सिर में एक सफ़ेद बाल!" विनीत ने ड्रेसिंग टेबल के शीशे में देखा, वास्तव में उसके सिर पर एक सफ़ेद बाल की लट झलक रही थी। "हाँ, सही कहा।" "जनाब बुड्ढे आगे पढ़ें


योजना

दरोगा साहब के आते ही कोने में बैठी घिसी हुई मैली धोती में लिपटी बूढ़ी, दीवार का सहारा लेते हुए उठी और अपनी लाठी टेकती उनकी ओर बढ़ी। "अभी रुको! साहब को पहले बाक़ी काम निपटाने दो," हवलदार रोबदार पर आगे पढ़ें


सत्य कहहुँ लिखि कागद कोरे

सुमित के ठीक सामने वाली गली के दाएँ तरफ़ वाली लेन के दूसरे क्रम के घर में रहती है वह। उमर यही कोई 21, 22 वर्ष; लम्बी, छरहरी; रंग गोरा, तीक्ष्ण नैन नक्श, वाणी मधुर, स्वभाव सरल तिस पर मिलनसारिता आगे पढ़ें


सुपुत्र

एक पुत्र अपने वृद्ध पिता को रात्रिभोज के लिये एक अच्छे रेस्टोरेंट में लेकर गया। खाने के दौरान वृद्ध पिता ने कई बार भोजन अपने कपड़ों पर गिराया। रेस्टोरेंट में बैठे दूसरे खाना खा रहे लोग वृद्ध को घृणा की आगे पढ़ें


हास्य/व्यंग्य

कोरोना बनाम (को) रोना

वे सभी दुनियाँ में लगातार हो रहे  मानवमूल्यों के अवमूल्यन से चिंतित थे। धर्मराज ने कहा, "धर्म की स्थापना करना तो भगवान का काम है। वे चाहें तो अवतार ले लें और अपनी ड्यूटी करें।" धर्मराज की सभा में कई आगे पढ़ें


घर बैठे-बैठे

"पुल बोये से शौक़ से  उग आयी दीवार कैसी ये जलवायु है  हे मेरे करतार" दुनिया को जीत लेने की रफ़्तार में, चीन ने ये क्या कर डाला, जलवायु ने सरहद की बंदिशों को धता बताते हुए सबको घुटनों पर आगे पढ़ें


बुढ़ौती प्राप्त करने की चाह

जीवों में जवान बने रहने की चाह कुदरती प्रवृत्ति है। हम मानते हैं कि मनुष्य जहाँ तक सम्भव हो जवान रहना चाहता है। जल्दी बूढ़ा होने का शौक़ तो कोई पागल ही पाल सकता है। परंतु यह सार्वभौमिक नियम नहीं आगे पढ़ें


साहब और कोरोना में खलयुद्ध

कल तक मैं बेकार का साहित्यकार था पर आज मैं सफल साहित्यकार हूँ। कारण, आज मेरा जुगाड़ भिड़ गया है। आज का साहित्यकार लेखन से नहीं, जुगाड़ से बड़ा होता है। जुगाड़ू साहित्यकार लिखता नहीं, बिकता है। जुगाड़ू साहित्यकार को आगे पढ़ें


आलेख

ईश्वर से मुक्ति का उत्सव

“यदि मुझमें कुछ ऐसा है जिसे धार्मिक कहा जा सकता है, तो वह है संसार के ढाँचे की–जहाँ तक विज्ञान इसे खोल पाया है - अंतहीन प्रशंसा।“ -अलबर्ट आइंस्टीन   ईश्वर एवं उसके दूतों के अस्तित्व का विवाद शाश्वत है, आगे पढ़ें


कुलानंद भारतीय और ’अपना घर’

28 अप्रैल, जयंती पर-    साहित्यकार कुलानंद भारतीय का जन्म 28 अप्रैल, 1924 को पौड़ी गढ़वाल के जामणी नामक ग्राम में हुआ था। आपने एम.ए. तक की शिक्षा हासिल की और बाद में सीनियर कैम्ब्रिज स्कूल में नियुक्त हुए। सन् आगे पढ़ें


समकालीन गीत और वीरेन्द्र आस्तिक 

पिछले दिनों (दिसंबर 30, 2019) लखनऊ में 'उत्तर प्रदेश हिंदी संस्थान' द्वारा जब श्रद्धेय वीरेन्द्र आस्तिक जी (जन्म : 15 जुलाई 1947) को 'साहित्य भूषण सम्मान' से सम्मानित किया गया, तब उन्हें और उनके परिवार को बधाइयाँ एवं शुभकामनाएँ देने आगे पढ़ें


हिंदी कथा-साहित्य में किन्नर स्वर 

समकालीन हिंदी कथा साहित्य प्रवृत्तियों की दृष्टि से नारीवाद, आदिवासी और दलित विमर्श, अल्पसख्यक विमर्श के श्रेणीगत सैद्धांतिक ढाँचे में बँध कर रह गया है। उक्त वर्गीकरण विभिन्न विधाओं में रचित साहित्य के शोधपरक अध्ययन के लिए सुविधाजनक है। दलित, आगे पढ़ें


हैलो मैं कोरोना बोल रहा हूँ

हैलो मैं कोरोना बोल रहा हूँ, अरे क्या हुआ फोन हाथ से छूटने लगा, इतना डर .… मत डरो फोन के अंदर से मैं नहीं आ सकता लेकिन सतर्क रहना, मैं बहुत मायावी हूँ कहीं से भी तुम्हारे शरीर में आगे पढ़ें


समीक्षा

पुलिस नाके पर भगवान : जागरण का सहज-स्फूर्त रचनात्मक प्रयास

पुलिस नाके पर भगवान : जागरण का सहज-स्फूर्त रचनात्मक प्रयास

समीक्ष्य पुस्तक : पुलिस नाके पर भगवान लेखक : अशोक गौतम प्रकाशक : गौरव बुक डिस्ट्रीब्यूटरस, हाउस न. 45 ग्राउंड फ्लोर, शिवाजी मार्ग, गली न. 5 करतार नगर, दिल्ली-110053 मूल्य : ₹350.00 “पुलिस नाके पर भगवान” अशोक गौतम का दसवाँ आगे पढ़ें


सह-अनुभूति एवं काव्यशिल्प – रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

सह-अनुभूति एवं काव्यशिल्प – रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’

पु्स्तक : सह-अनुभूति एवं काव्यशिल्प लेखक : रामेश्वर काम्बोज ‘हिमांशु’ प्रकाशक : अयन प्रकाशन 1/20, महरौली, नई दिल्ली 2020 पृष्ठ : 149 मूल्य : 300 रु.  समीक्षक – रमेश कुमार सोनी, बसना [छत्तीसगढ़] शब्दकोष में बैठे हुए शब्द उदास होते हैं आगे पढ़ें


कविताएँ

शायरी

समाचार

साहित्य जगत - कैनेडा

शिशिर की एक शाम, नृत्य-नाट्योत्सव के नाम

शिशिर की एक शाम, नृत्य-नाट्योत्सव के नाम

23 Nov, 2019

हिन्दी राइटर्स गिल्ड का 11वां वार्षिकोत्सव   नवंबर 17, 2019 मिसीसागा -  टोरोंटो में पिछले ग्यारह वर्षों से अपने एक…

आगे पढ़ें
शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

25 Oct, 2019

१९ अक्तूबर २०१९—हिन्दी राइटर्स गिल्ड की मासिक गोष्ठी ब्रैम्पटन लाइब्रेरी के सभागार में संपन्न हुई। पतझड़ के मोहक रंगों से…

आगे पढ़ें
हिन्दी हैं हम, चाहे, कोई वतन हमारा…..

हिन्दी हैं हम, चाहे, कोई वतन हमारा…..

28 Sep, 2019

हिन्दी राइटर्स गिल्ड ने 14 सितम्बर 2019 को अपनी मासिक गोष्ठी में ‘हिंदी दिवस’ का सुन्दर आयोजन किया। यह कार्यक्रम…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - भारत

'इंडियन पोएट्री इन इंग्लिश— पेट्रीकॉर' का लोकार्पण

'इंडियन पोएट्री इन इंग्लिश— पेट्रीकॉर' का लोकार्पण

12 Mar, 2020

पटना, मार्च 06, 2020 -  शुक्रवार को अँग्रेज़ी के जाने-माने साहित्यकार, कवि एवं टीपीएस कॉलेज के अँग्रेज़ी विभाग के आचार्य…

आगे पढ़ें
भाषा और संस्कृति पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन संपन्न

भाषा और संस्कृति पर दो दिवसीय अंतरराष्ट्रीय सम्मेलन संपन्न

5 Mar, 2020

नई दिल्ली, 1 मार्च 2020 "आज का समय पूरी दुनिया में मानवीय मूल्यों के संकट, आसुरी शक्तियों के आतंक और…

आगे पढ़ें
एकदिवसीय राष्ट्रीय शिक्षक उन्नयन कार्यशाला संपन्न

एकदिवसीय राष्ट्रीय शिक्षक उन्नयन कार्यशाला संपन्न

30 Jan, 2020

बैंगलोर, 29 जनवरी (मीडिया विज्ञप्ति)। बिशप कॉटन वीमेन्स क्रिश्चियन कॉलेज की ओर से एकदिवसीय राष्ट्रीय शिक्षक उन्नयन कार्यशाला का आयोजन…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - विदेश

फ़ॉल्सम, कैलिफ़ोर्निया में 'रचनात्मिका - हिंदी साहित्य मंच' का गठन

फ़ॉल्सम, कैलिफ़ोर्निया में 'रचनात्मिका - हिंदी साहित्य मंच' का गठन

15 Jan, 2020

११ जनवरी २०२०, फ़ॉल्सम, कैलिफ़ोर्निया, संयुक्त राज्य अमेरिका। "विश्व हिंदी दिवस" के सुअवसर पर सैक्रामेंटो तथा आस पास के क्षेत्रों…

आगे पढ़ें
साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला पाठ्यक्रम में 

साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला पाठ्यक्रम में 

16 Sep, 2019

सुपरिचित कुंडलियाकार एवं साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला की रचनाओं​ को XSEED Education की पाठ्य-पुस्तकों में सम्मिलित किया गया है ।…

आगे पढ़ें
कहानी-पाठ एवं चर्चा - उर्मिला जैन का संग्रह ’मोन्टाना’ और कमला दत्त का ’अच्छी औरतें’

कहानी-पाठ एवं चर्चा - उर्मिला जैन का संग्रह ’मोन्टाना’ और कमला दत्त का ’अच्छी औरतें’

21 Jul, 2019

लंदन, 17 जुलाई 2019 – वातायन पोएट्री ऑन साउथ बैंक द्वारा नेहरु सेंटर-लंदन में एक विशेष साहित्यिक समारोह का आयोजन…

आगे पढ़ें
  • विडिओ

  • ऑडिओ