हिंदी हमारी माँ: हिंदी दिवस के अवसर पर डॉ. हरिश नवल जी के परिवार से एक बातचीत
हिंदी हमारी माँ: हिंदी दिवस के अवसर पर डॉ. हरिश नवल जी के परिवार से एक बातचीत

..

साहित्य कुञ्ज के इस अंक में

कहानियाँ

गौरी : एक मोची

रोज़ाना की तरह वो आज भी अपनी अटैची लेकर अपने घर से निकली, बस स्टैंड के पास एक पीपल के पेड़ की छाँव में अपनी गद्दी को बिछाया और अपना सामान लगाने लगी। उसकी नज़रें इधर-उधर ग्राहकों को तलाश रही आगे पढ़ें


छल-बल

  आज से साठ साल पहले उस सन‌‌ १९५८ के उन दिनों बिट्टो की अम्मा की गर्भावस्था का  नवाँ महीना चल रहा था। एक दिन बिट्टो के स्कूल जाते समय उसके हाथ में उसके बाबूजी की चाभी रख कर अम्मा आगे पढ़ें


प्रतिशोध

रामलीला का रंगमंच सजा हुआ था चारों और दर्शकों की भारी भीड़ थी। वैसे शिवम बहुत ही सुंदर और सुशील लड़का था और राम के रूप में तो उसकी सुंदरता और भी निखर जाया करती थी।  आज रामलीला के मंच आगे पढ़ें


बोल्टू के हस्का फुस्की और बोल्ट्स

मैं कुछ भूलता नहीं ऐसा दावा नहीं कर रहा हूँ। मगर यह दावा पुरज़ोर करता हूँ कि नाममात्र को ही कुछ भूलता हूँ। जैसे बचपन में मैं जिन साथियों के साथ खेलता-कूदता था, पढ़ता-लिखता था उनमें से कुछ ही हैं आगे पढ़ें


आभूषण

सर्दी की सुनसान रात को चारों तरफ़ छाए हुए शांत रहस्यमयी वातावरण को तेज़ क़दमों की आहट भंग किये जा रही है। धीरे-धीरे गति बढ़ती ही चली जा रही है "टप टाप टप टप"। अब वह क़दम लगभग भागने ही आगे पढ़ें


गिरगिट

सावन का महीना उत्सवमय हो चला था और भक्ति में डूबे काँवड़िये महानगर में अपनी छटा बिखेर रहे थे। कॉलोनी की सोसायटी वालों ने भी शिवभक्त काँवड़ियों की सेवा के लिए शिविर लगाया हुआ था। अभी जलाभिषेक में चार दिन आगे पढ़ें


पति का बटुआ

शुभ्रा की आदत आम पत्नियों की तरह अपने पति के बटुए तलाशने की नहीं थी, उसे जब भी पैसे चाहिए होते तो वो आनंद से माँग लेती थी किन्तु कभी उसने आनंद का बटुआ नहीं छुआ था। आज जब शुभ्रा आगे पढ़ें


बेटी की गुल्लक

"अशोक माँ को ले जाओ मेरा टर्न कल ख़त्म हो रहा है," डॉ.. नरेश ने अपने छोटे भाई से कहा। "भैया मेरी पत्नी आई सी यू में है। घर पर कोई नहीं है माँ की देखभाल कौन करेगा? प्लीज़ आप आगे पढ़ें


इमली

"भैया! पैसे दो ना!" वैभव ने कहा  सौरभ ने कहा, "नहीं, फिर तू जाकर इमली खाएगा।" "नहीं भैया पाचक खाऊँगा या चॉकलेट," वैभव ने उत्तर दिया। सौरभ ने वैभव को दो रुपए दिये। सौरभ अभी पहली कक्षा में था तो आगे पढ़ें


हास्य/व्यंग्य

कुत्ता साहब

(व्यंग्य संग्रह - अगले जनम मोहे कुत्ता कीजो से साभार)   आपको यह टाइटिल देख कर लग रहा होगा कि यह कुत्तापनी सोच की हाईट है कि साहब को कुत्ते से चिपका दिया? नहीं साहब इसमें ग़लत कुछ भी नहीं आगे पढ़ें


गोली नेकी वाली

"ये दौरे सियासत भी क्या दौरे सियासत है  चुप हूँ तो नदामत है, बोलूँ तो बग़ावत है"  आम वोटर चुनाव के वक़्त ऐसे ही सोचता है कि वो क्या बोले, सब कुछ तो बोल दिया है नेताजी ने। नेताजी जवान आगे पढ़ें


डार्विन का इंटरव्यू

डार्विन, किसी खोपड़ी को घड़ी-साज की तरह कुरेदते हुए मिल गए।  मैंने कहा, “आपको हम ढूँढ़-ढूँढ़ के थक गए। चलिए, क्या खोपड़ी में अपना खोपड़ा दिए बैठे हैं। फटाफट तैय्यार हो जाइये।”  वे मोटे लेंस के चश्मे को ऊपर की आगे पढ़ें


हाय! मैं अभागा पति

श्रीमती श्री मायके गई हुई थी, सो थोड़ा फ़्री था। जब तक वह घर में होती है, मत पूछो कितना व्यस्त रहता हूँ। उसके घर में रहते हुए सिर झुकाए घर से सीधे ऑफ़िस तो ऑफ़िस से सीधे घर। बीच आगे पढ़ें


आलेख

नैसर्गिक प्रतिभा के धनीः डॉ. बनवारी लाल गौड़

डॉ. बनवारी लाल गौड़ जी का नाम किसी परिचय का मोहताज़ नहीं है। उनकी कहानी मीठी ईद, काली मर्सिडीज और हैलो पढ़ीं। अभी हाल ही में उनकी कविता- ए राम तुमने क्या किया,  इतना कठिन निर्णय लिया,  कि एक दुर्जन आगे पढ़ें


बच्चो! पहला प्रयास स्वास्थ्य पर ध्यान

बच्चो! कहा गया है, स्वस्थ तन में स्वस्थ मन का निवास होता है, इसे यूँ भी कह सकते हैं, यदि स्वस्थ रहेंगे तो हमारी बुद्धि भी तेज़ होगी, अच्छी होगी। बुज़ुर्गों ने संसार के सभी सुखों में, "पहला सुख निरोगी आगे पढ़ें


संस्मरण

दुनिया की छत - 3 : व्रेंगो द्वीप की दुपहरी

दुनिया की छत - 3 : व्रेंगो द्वीप की दुपहरी

उजला-उजला दिन है आज। हल्की हवा और नर्म धूप वाला खुला-खुला दिन। भारती मुझे किसी द्वीप की ओर ले जा रही है। गॉथनबर्ग के दक्षिणी छोर पर समुद्र से घिरा ‘व्रेंगो आइलैंड’। हम ट्राम से उतर कर ‘फ़ेरी’ के ठिकाने आगे पढ़ें


पूर्व और पश्चिम का सांस्कृतिक सेतु ‘जगन्नाथ-पुरी’: यात्रा-संस्मरण - 2

भुवनेश्वर से पुरी नंदिता जी को उनके ऑफ़िस में छोड़कर हमारी कार दौड़ने लगती है पुरी की तरफ़ जाने वाली विस्तृत सड़क पर। पर्यटन की दृष्टि से बनाई हुई इस विस्तृत सड़क के दोनों ओर की प्राकृतिक सुषमा मन के आगे पढ़ें


कविताएँ

शायरी

समाचार

साहित्य जगत - कैनेडा

शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

शरद्‌ काव्योत्सव मासिक गोष्ठी - अक्तूबर 2019

25 Oct, 2019

१९ अक्तूबर २०१९—हिन्दी राइटर्स गिल्ड की मासिक गोष्ठी ब्रैम्पटन लाइब्रेरी के सभागार में संपन्न हुई। पतझड़ के मोहक रंगों से…

आगे पढ़ें
हिन्दी हैं हम, चाहे, कोई वतन हमारा…..

हिन्दी हैं हम, चाहे, कोई वतन हमारा…..

28 Sep, 2019

हिन्दी राइटर्स गिल्ड ने 14 सितम्बर 2019 को अपनी मासिक गोष्ठी में ‘हिंदी दिवस’ का सुन्दर आयोजन किया। यह कार्यक्रम…

आगे पढ़ें
लेख कैसे लिखें: एक सार्थक चर्चा

लेख कैसे लिखें: एक सार्थक चर्चा

18 Sep, 2019

10 अगस्त, 2019 को हिंदी राइटर्स गिल्ड ने वैचारिक संगोष्ठी आयोजित की, विचार का विषय था: अच्छा लेख कैसे लिखा…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - भारत

बालकविता संग्रह ‘कहावतों की कविताएं’ का हुआ लोकार्पण

बालकविता संग्रह ‘कहावतों की कविताएं’ का हुआ लोकार्पण

19 Nov, 2019

  संस्कृति शिक्षा संस्थान, कुरुक्षेत्र (हरियाणा) द्वारा प्रकाशित डॉ. वेद. मित्र शुक्ल के बाल-कविता संग्रह ‘कहावतों की कविताएं’ का लोकार्पण…

आगे पढ़ें
गोइन्का राजस्थानी साहित्य पुरस्कार वितरण समारोह सम्पन्न

गोइन्का राजस्थानी साहित्य पुरस्कार वितरण समारोह सम्पन्न

12 Nov, 2019

चूरू जिले के सम्मानित विधायक श्री राजेन्द्रसिंह जी राठौड़ की अध्यक्षता में "मातुश्री कमला गोइन्का राजस्थानी साहित्य पुरस्कार" वितरण समारोह…

आगे पढ़ें
भोजपाल साहित्य संस्थान, भोपाल की मासिक काव्य गोष्ठी संपन्न

भोजपाल साहित्य संस्थान, भोपाल की मासिक काव्य गोष्ठी संपन्न

21 Oct, 2019

19 अक्टूबर 2019 को भोपाल में साहित्य के क्षेत्र में निरंतर सक्रिय संस्था, भोजपाल साहित्य संस्थान, भोपाल की मासिक साहित्यिक…

आगे पढ़ें

साहित्य जगत - विदेश

साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला पाठ्यक्रम में 

साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला पाठ्यक्रम में 

16 Sep, 2019

सुपरिचित कुंडलियाकार एवं साहित्यकार त्रिलोक सिंह ठकुरेला की रचनाओं​ को XSEED Education की पाठ्य-पुस्तकों में सम्मिलित किया गया है ।…

आगे पढ़ें
कहानी-पाठ एवं चर्चा - उर्मिला जैन का संग्रह ’मोन्टाना’ और कमला दत्त का ’अच्छी औरतें’

कहानी-पाठ एवं चर्चा - उर्मिला जैन का संग्रह ’मोन्टाना’ और कमला दत्त का ’अच्छी औरतें’

21 Jul, 2019

लंदन, 17 जुलाई 2019 – वातायन पोएट्री ऑन साउथ बैंक द्वारा नेहरु सेंटर-लंदन में एक विशेष साहित्यिक समारोह का आयोजन…

आगे पढ़ें
वियतनाम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय हिन्दी उत्सव में डॉ. रवीन्द्र प्रभात के नेतृत्व में हिस्सा लिया 55 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने

वियतनाम में आयोजित अंतरराष्ट्रीय हिन्दी उत्सव में डॉ. रवीन्द्र प्रभात के नेतृत्व में हिस्सा लिया 55 सदस्यीय भारतीय प्रतिनिधिमंडल ने

6 Jun, 2019

भारतीय महावाणिज्य दूतावास हो ची मिन्ह सिटी वियतनाम, भारतीय व्यापार कक्ष वियतनाम और प्रमुख भारतीय संस्था परिकल्पना के संयुक्त तत्वावधान…

आगे पढ़ें
  • विडिओ

  • ऑडिओ