अन्तरजाल पर आपकी मासिक पत्रिका

अन्तरजाल पर साहित्य-प्रेमियों की विश्राम-स्थली
वर्ष: 14, अंक 123,  जनवरी अंक, 2018
ISSN 2292-9754

लेखक या सम्पादक की लिखित अनुमति के बिना पूर्ण या आंशिक रचनाओं का पुर्नप्रकाशन वर्जित है। लेखक के विचारों के साथ सम्पादक का सहमत या असहमत होना आवश्यक नहीं।  सर्वाधिकार सुरक्षित। साहित्य कुंज में प्रकाशित रचनाओं में विचार लेखक के अपने हैं और साहित्य कुंज टीम का उनसे सहमत होना अनिवार्य नहीं है।
सम्पादक:- सुमन कुमार घई; साहित्यिक परामर्श:- डॉ. शैलजा सक्सेना; सहायता - विजय विक्रान्त; शायरी संपादक:- अखिल भंडारी
संरक्षक - महाकवि प्रो. हरिशंकर आदेश

कविता  नवगीत  |  शायरी  |  कहानी  |  लघु-कथा  |  सांस्कृतिक-कथा  |  आपबीती  |  आलेख  |  महाकाव्य  |
हास्य-व्यंग्य  |  हास्य/व्यंग्य कविताएँ  |  अनूदित-साहित्य  |  नाटक  |  बाल साहित्य  |  संकलन  |  ई-पुस्तकालय  |  शोध निबन्ध |  साहित्यिक-चर्चा  |  लेखक  |  शायर  |  पुस्तक समीक्षा / पुस्तक चर्चा  | साक्षात्कार  |  संपादकीय |
इस अंक में  |  पुराने अंक 

संपादकीय – हिन्दी साहित्य के पाठक कहाँ हैं? भाग -३

पिछले दिनों इंटरनेट पर बच्चों की हिन्दी की पुस्तकें ढूँढता रहा। कई प्रकाशकों की वेबसाईट्स पर गया और बाल-साहित्य की पुस्तकें खोजने का प्रयास किया जो कि टेढ़ी खीर साबित हुआ।   आगे पढ़ें

आपके पत्र - शुद्ध लेखन युक्तियाँ - पुस्तक बाज़ार.कॉम -
-
इस अंक के पत्र - हरिहर झा, समीक्षा तैलंग, अमिताभ वर्मा

हिन्दी व्याकरण -   

कुरुक्षेत्र विश्वविद्यालय  
भारतकोश
हिन्दी साहित्य\
कविता का व्याकरण एवं छंद - भारतकोश
हिन्दी व्याकरण वीकिपीडिया
पूर्ण विराम के बाद एक स्पेस या डबल स्पेस


हिन्दी की ई-पुस्तकें खरीदने और प्रकाशित करवाने के लिए कृपया नीचे दिये लिंक पर क्लिक करें: pustakbazaar.com
इस अंक की कहानियाँ -
नयी धुन
 अमिताभ वर्मा
एक प्रेम कहानी यह भी
रिम्पी खिल्लन
इत्र की शीशी
डॉ. बिभा कुमारी
हास्य-व्यंग्य - (आलेख) हास्य-व्यंग्य - कविता - सांस्कृतिक-कथा -
त्रासदी विवाहित इश्क़िए की - डॉ. अशोक गौतम
आज मै शर्मिंदा हूँ? - अशोक परुथी "मतवाला"
नास्त्रेदमस और मैं... - सुशील यादव
चम्मच से तोते सीख गये खाना, तुरत छिड़ गया युद्ध - हरिहर झा
राधे ने जब - विशाल शुक्ल
आदमी और नसीब, आदमी और आईना - राजीव कुमार
बाल साहित्य - लघु कथा -  साक्षात्कार-
हिमपात - शकुन्तला बहादुर
चतुर वानर, कछुआ और खरगोश - अर्चना सिंह "जया"
बारहमासी - नरेंद्र श्रीवास्तव
सुनहरी किरण का घर - हेमांद्री व्यास
सब्ज़ी मेकर - डॉ. चंद्रेश कुमार छतलानी
रेणू धर्म - अर्चना सिंह "जया"
आत्मग्लानि - साधना सिंह
प्यार - श्रद्धा मिश्रा

परिचर्चा - शोध निबन्ध -   शोध निबन्ध -  
हिन्दी साहित्य के पाठक कहाँ हैं?
(
इस विषय पर आप सभी के विचार आमंत्रित हैं)
इस अंक में - डॉ. श्वेता चौधारे
शंकर सिंह “सेन निलय”, भुवन पाण्डे
आदिवासी साहित्य की अवधारणा - मोनिका मीना
’जमुनी’ कहानी संग्रह में लोक जीवन व संस्कृति - जीतलाल
कबीर के साहित्य साधना में सामाजिक विमर्श - मोहन पाण्डेय
भीष्म साहनी का साहित्यिक व्यक्तित्व और कृतित्व - दिलीप कुमार झा
आलेख - आलेख - अनूदित साहित्य
युग निर्माण में आत्म चेतना की भूमिका - डॉ. सविता पारीक
प्रवासी भारतीय क्रांतिकारियों का स्वतन्त्रता संग्राम में योगदान - शकुन्तला बहादुर
व्यवस्था की क्रोड़ में फँसे हिंदी के पाठक - डॉ. श्वेता चौधारे
मुक्तिबोध का काव्य मर्म - डॉ. भारतेन्दु मिश्र
मुक्तिबोध की काव्य चेतना - डॉ. एम वेंकटेश्वर
 मारेय नाम का किसान
मूल कथाकार : फ़्योदोर दोस्तोयेव्स्की
अनुवाद : सुशांत सुप्रिय
पीना
मूल लेखिका - गाब्रिएला मिस्त्राल (चिले, १९३८)
कविता शीर्षक- beber (बेबेर)
अनुवाद : डॉ. मयुरेश कुमार
कविताएँ - शायरी -
मौत के मिथक, एक संवेदनात्मक पड़ताल, बूढ़े होते हुए - सतीश सिंह
बेचैनी - डॉक्टर कनिका वर्मा
कील - डॉ. अखिलेश शर्मा
नई पीढ़ी की पाठकीय आकांक्षाएँ, बोझिल, कविता की उपज, परवरिश के दायरे - ऋचा वर्मा
तुम जैसी, ये कैसा बचपन -  डॉ. आरती स्मित
दर्द की किताब - सविता अग्रवाल ’सवि’
पनघट सूने हो गये, मेरी ज़िन्दगी की किताब, टीस, क़ैद करना अरमानों को - शबनम शर्मा
ताँका - डॉ. सुरंगमा यादव
माँ - डॉ. राधिका गुलेरी भारद्वाज
आम आदमी, प्रकृति, मैं, मेरा श्रम ही मेरा धन है - विमल शुक्ला "विमलेश"
ख़ुदखुशी, तिरंगी कफ़न - हरिपाल सिंह रावत
मेरा किरदार - प्रकाश त्रिपाठी
ज़माना, नेत्रहीन - लवनीत मिश्र
वंदना, शतंरज - कंचन अपराजिता
तेरा एहसास तो है - अंतरिक्ष शर्मा
ऋतुराज पर हाइकु - पुष्पा मेहरा
तरही ग़ज़ल अंतरजाल सम्मेलन
अखिल भंडारी
ग़ज़ल लिखने की कार्याशाला में भाग लें
तसव्वुर का नशा गहरा हुआ है - महावीर उत्तरांचली
ज़माने में धुँआ कैसा हुआ है - डॉ. अनिल चड्डा
किनारे पर खड़ा क्या सोचता है

अखिल भंडारी
यही मेरी मुहब्बत का सिला है
मोहन जीत ’तन्हा’

आज फिर साथ दे, सामने आ ज़रा, मुझे तुम से मुहब्बत है - पीताम्बर दास सराफ "रंक"
नवगीत - नवगीत - नवगीत समीक्षा
कोई साँझ अकेली होती, सुख की रोटी, घिर रही कोई घटा फिर -  शिवानन्द सिंह ‘सहयोगी’    
पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा-  पुस्तक समीक्षा / चर्चा- 

जगती को गौतम बुद्ध मिला
धर्मेंद्र सुशांत

हाइकु जगत में मधु जी की एक ख़ास पेशकश हाइकु काव्य "मधु कृति"
प्रदीप कुमार दाश "दीपक"
 
यात्रा संस्मरण - आप-बीती / संस्मरण - नाटक -
कनाडा डायरी के पन्ने
अनोखी बच्चा पार्टी

सुधा भार्गव
पानी के भीतर की वो गुट्ट-गुट्ट
प्रभुदयाल श्रीवास्तव
आलसी शीनू
(बाल नाटक)
नीरजा द्विवेदी
साहित्यिक समाचार -

अँग्रेज़ी के गढ़ में हिन्दी साहित्य का सम्मान

समकालीन ग़ज़ल संग्रह "दसख़त" का लोकार्पण

सुदर्शन सोनी के उपन्यास ‘आरोहण’ का 5 नवम्बर 2017 को भोपाल में विमोचन संपन्न
ई - पुस्तकालय - (इस स्तम्भ में पुस्तकों का प्रकाशन धारावाहिक रूप में होगा) संकलन -
 
शकुन्तला
पूर्व खण्ड - प्रथम सर्ग
उदय-
7 8 9 10

महादेवी वर्मा
डॉ. हरिवंश राय बच्चन
आचार्य हजारी प्रसाद द्विवेदी
त्रिलोचन शास्त्री
नागार्जुन
सूचना - साहित्य संगम -
साहित्य कुंज के नए अंकों की सूचना पाने के लिए अपना ई-मेल पता भेजें

Powered by us.groups.yahoo.com

अनुभूति-अभिव्यक्ति  
काव्यालय
लघुकथा.com
साहित्य सरिता
विचारों का वृन्दावन वन! (साउंड क्लाऊड)
हिन्दी नेस्ट
सृजनगाथा
कृत्या
हिन्दी हाइकु
साहित्यसुधा
अपनी रचनाएँ भेजें:-
कृपया अपनी रचनाएँ निम्नलिखित ई-मेल पर भेजें
sahityakunj@gmail.com
अथवा डाक द्वारा भेजें:-
Sahitya Kunj,
3421 Fenwick Crescent
Mississauga, ON, L5L N7
Canada