(विधा सेदोका)

1.
राष्ट्र निर्माता
शारदा के पुजारी
शिक्षक हैं महान
ज्ञान की ज्योति
चतुर्दिक फैलाते
पूज्य पिता समान।
2.
धन्य शिक्षक
मान के अधिकारी
सर्वत्र पूजे जाते
पुस्तक प्रेमी
अनुशासनप्रिय
ज्ञान दीप जलाते।
3.
ज्ञान समृद्ध
चेतना के प्रहरी
शिक्षक हैं हमारे
ब्रह्म समान
साधना में तल्लीन
पथ प्रदर्शक हमारे।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें