सब सुहावना था

04-02-2019

सब सुहावना था

महेश रौतेला

सब सुहावना था
उस काले लिबास में
तुम सुन्दर लग रही थी
पर तब मैं चूक गया था
कहना कि "अच्छी लग रही हो।"

हज़ारों बार देखा था
पर तब मैं भूल गया था
कहना कि "अच्छी हैं आँखें।"

अचानक उस क्षण
तुम सकुचाई थी
मैं पूछ न सका कि "कैसी हो?"

उस पगडण्डी पर
तुम ठिठकी थी
पर पूछ न सका
कि "बाज़ार जा रही हो?"

जब तुम खड़ी हुई थी
कह न पाया था
कि "इतना प्यार है?"

जब स्पर्श हुआ था
सोचा-समझा,
तब दे न सका कोई वादा सहज सा।

मीलों की यात्रा में
क्षितिजों को मिलाया था
पर तुम्हें देखने पर
दुहरा न सका
वह पुराना वाक्य,
केवल बोला,"देखने आया हूँ।"
जिसके कहने पर रुका था समय,
दोहराने पर
प्रलय सा कुछ छाया था।

ऐसे एहसास आने में
युग बीत जाते हैं,
ऐसी कविता सुनने को
ईश्वर भी नीचे आ जाते हैं।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी
कविता
विडियो
ऑडियो

A PHP Error was encountered

Severity: Core Warning

Message: PHP Startup: Unable to load dynamic library '/usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll' - /usr/local/php5.4/lib/php/extensions/no-debug-non-zts-20100525/php_pdo_mysql.dll: cannot open shared object file: No such file or directory

Filename: Unknown

Line Number: 0

Backtrace: