दूध सी मेरी बातें

02-02-2017

दूध सी मेरी बातें

महेश रौतेला

दूध सी मेरी बातें
अब भी तुम्हें पकड़ती होंगी,
आँखों में जब नाचती होंगी
आँखें तुम मूँद लेते होगे।

दूध सी मेरी बातें
तुम्हारे हाथ थामती होंगी,
मुखड़े पर एहसास ला
तारों की तरह टिमटिमाती होंगी।

दूध सी मेरी बातें
तुम्हारी राहों की तह लगाती होंगी,
मन को आहट दे
सैकड़ों बार खोलती होंगी।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कहानी
कविता
विडियो
ऑडियो