हम पल-पल चुक रहे हैं

15-11-2020

हम पल-पल चुक रहे हैं

महेश रौतेला

हम पल-पल चुक रहे हैं
शिखर से गिर रहे हैं,
नदी समान बह रहे हैं
जंगल सा कट रहे हैं।
 
हमारी माँगे पूरी नहीं हुयी हैं
प्यार के क्षण अनछुये रह गये हैं,
कुछ पाने की आशा में
हम धीरे-धीरे चुक रहे हैं।
 
उधार जितना किया है
उसे चुका नहीं पाये हैं,
अपनी लौ के साथ प्रज्वलित
विलीन होते जा रहे हैं।
 
हमारी कुछ रेखाएँ
बदलती जा रही हैं,
हड्डियों के जाल में
मौन थकान घुसती जा रही है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
स्मृति लेख
कहानी
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में