बचे हुए कुछ लोग ....

01-02-2015

बचे हुए कुछ लोग ....

सुशील यादव

लक्ष्य का हमको पता नहीं, पतवार लिए हैं
हम गांधारी के बेटों जैसा, संस्कार लिए हैं

हम बेच कहाँ पाते हैं, ईमान टके भाव
अपने-अपने मन का सब, बाजार लिए हैं

भूख-ग़रीबी, हाशियों में भी विज्ञापित
यूँ आगामी कल का देखो, अख़बार लिए हैं

वे अहिंसा के पुजारी, किताबों में चले गए
बचे हुए कुछ लोग यहाँ, तलवार लिए हैं

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
दोहे
ग़ज़ल
कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में