भीतर ज़हर . . .

15-03-2021

भीतर ज़हर . . .

सुशील यादव

 

कहीं तो धब्बे दाग निकालो
इस बसंत में आग निकालो 
 
जो अपनी मनमानी करते
उनकी अकड़ झाग निकालो
 
बेसुर होकर ढोल न पीटो
मधुर सुरों के राग निकालो
 
सोने को तमाम उम्र पड़ी है
अपना हिस्सा जाग निकालो
 
भीतर ज़हर कुछ काम न देगा
बेहतर बाहर नाग निकालो

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
ग़ज़ल
दोहे
हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
कविता-मुक्तक
पुस्तक समीक्षा
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में