रोक लो उसे

01-08-2021

रोक लो उसे

सुशील यादव

2122      2121      2122
 
कौन किसका इम्तिहान ले रहा है।
भीड़ ये मातम का  सामान ले रहा है ।
 
रोक लो उसे जानकार अक्ल-मंदों
हाथ में कोई आसमान  ले रहा है ।
 
जिस भरोसे पा सके हो जीत  हंसी
बदहवस  ये  साँस जान ले रहा है।
 
मंज़िलों की दौड़ में बनो मुक़ाबिल
वक़्त  हाथों से कमान ले रहा है ।
 
हैं क़यामत से ज़रा कि  दूर हम भी
रोज़ फ़िक्र यही इन्सान ले रहा है।
 
हो गई फ़तवे से बोलती अभी बंद
फ़ैसला जब बेज़ुबान ले रहा है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

हास्य-व्यंग्य आलेख-कहानी
ग़ज़ल
गीत-नवगीत
दोहे
कविता
कविता-मुक्तक
पुस्तक समीक्षा
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में