21-02-2019

तेरी यादों का कोहरा

महेश रौतेला

ये,
तेरी यादों का कोहरा,
तेरी यादों की बूँदें,
तेरी यादों का साया,
तेरी यादों का पहरा,
शब्दों में नहीं वाचा है,
मन से सारा जप डाला है।

तेरी बातों के बादल,
तेरी बातों की राहें,
तेरी बातों का हँसना,
तेरी बातों की पगडण्डियाँ,
शब्दों में नहीं वाचा है,
मन से सारा जप डाला है।

तुझे कहने वाले भाव,
तुझे लाने वाले क्षण,
तुझे बताने वाली सांसें,
तुझसे आने वाली लौ ,
शब्दों में नहीं वाचा है,
मन से सारा जप डाला है।

0 Comments

Leave a Comment

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
विडियो
ऑडियो