शुभकामनाएँ

01-08-2021

शुभकामनाएँ

महेश रौतेला

दूर से शुभकामनाएँ आती हैं
कुछ ठिठुर-ठिठुर कर,
कुछ हँसते, कुछ इठलाते
कुछ मुस्कुरा कर थपथपा जाती हैं।
 
उतनी दूर से
बधाई आती है,
जगमगाती, टिमटिमाती,
शीतल चाँदनी सी फैली,
गुनगुनी धूप सी बिछी,
जो मुझे प्यार के मोड़ पर खड़ा कर जाती है।
 
शुभकामनाएँ आती हैं
चलकर नहीं, उड़कर,
चमकती हैं, बरसती हैं
जैसे दूर कहीं वर्षा होती है,
मन के पास ठहर
उसे हरा-भरा कर जाती हैं।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
स्मृति लेख
कहानी
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में