इसी मनुष्य की विभा सूर्य सी चमकती

01-02-2020

इसी मनुष्य की विभा सूर्य सी चमकती

महेश रौतेला

इसी मनुष्य की विभा सूर्य सी चमकती,
इसी मनुष्य की तृष्णा, समुद्र सी उछलती,
यही मनुष्य देव है, जब बुद्ध तक आ गया,
इसी मनुष्य की प्रभा, धरा का अभिमान है।


पुरुषार्थ के लिए बनी पवित्र यह धरा है,
आनन्द का, शोक का अमृत-विष यहाँ है,
प्यार के बने हुए, ऊँचे जन्म-स्थल हैं,
ज्ञान के प्रकाश की ध्वनि धरा में व्याप्त है।


मनुष्य ने जो कहा वही उसका गीत है,
मनुष्य की दया में लौटता विधान है,
बँटता-बिखरता मनुष्य का संसार है,
लोक से परलोक तक मनुष्य की आवाज़ है,
इसी मनुष्य की विभा सूर्य सी चमकती।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
विडियो
ऑडियो