दुनिया से  जाते समय

15-12-2020

दुनिया से  जाते समय

महेश रौतेला

दुनिया से जाने का समय
अकेला और एकान्त होता है,
बहुत कुछ बोल चुका मनुष्य
कुछ बोलना नहीं चाहता है।
 
वह एक गुनमुने शब्द को तरस जाता है
एक सरल शब्द पर रुक जाता है,
अपने शब्दों को
निर्जीव कर देता है।
 
दुनिया से  जाते समय
सभी आन्दोलन थम जाते हैं,
लार टपकाती जिह्वा
ठंडी पड़ जाती है।
 
हमारा कहा गया
कोई और कहने लगता है,
हमारा जिया गया
कोई और जीने लगता है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
स्मृति लेख
कहानी
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में