आरक्षण की व्यथा

15-06-2019

आरक्षण की व्यथा

महेश रौतेला

वह अँग्रेज़ी सीखा है
आरक्षण पर चर्चा करता है
पचास प्रतिशत जो अनारक्षित है
उस पर, अंगद सा पैर जमा लेता है
पीढ़ी दर पीढ़ी झोली भरता है
कह लें, सौ प्रतिशत खाता है।

 

फिर जो पचास प्रतिशत आरक्षण है
वह भी अँग्रेज़ी सीखा है
अब सारा का सारा आरक्षण
उसकी झोली में है,
पीढ़ी दर पीढ़ी झोली भरता है।

 

जो छूटा है
वह बेचारा है
कर्मों का मारा है, 
वर्षों से हाशिये पर खड़ा है,
उसका हिस्सा कौन खाता है,
उसे पता नहीं है,
भोला है, अँग्रेज़ी से बाहर है
सच पूछो, आरक्षण अँग्रेज़ी को है।

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
कहानी
विडियो
ऑडियो