आग बरसते दिन आये

मुकेश कुमार ऋषि वर्मा

आग बरसते दिन आये 
गर्मी वाले दिन आये 

 

सूख गए सब ताल-तलैया 
खड़ी किनारे हाफें नैया
आग बरसते दिन आये 
गर्मी वाले दिन आये 

 

धधक रहा सूरज गोला 
पैर जले तब चिल्लाया भोला
आग बरसते दिन आये 
गर्मी वाले दिन आये 

 

शरबत की माँग बड़ी 
छुटकी आइसक्रीम खाये खड़ी
आग बरसते दिन आये 
गर्मी वाले दिन आये 

 

सर्र-सर्र लू-लपट चले 
गर्म तवे सी धरती जले
आग बरसते दिन आये 
गर्मी वाले दिन आये

0 Comments

Leave a Comment