ज़िंदगी के रंग

15-07-2020

ज़िंदगी के रंग

राजनन्दन सिंह

हज़ारों नहीं
लाखों नहीं 
करोड़ों भी नहीं
ज़िंदगी के अनगिनत रंग है
तटस्थ होकर जीना
जीने से जी चुराना है
किसी एक नज़रिये से
ज़िंदगी को देखना
और परिभाषित कर देना
अधूरा कार्य होगा
अपनी नज़र में 
साधू अच्छा है
तो पेशेवर चोर भी 
क्या पता? बुरा न हो
कोई जानवर यदि हिंसक है
तो उसे प्रकृति ने बनाया है
एक उड़ते पक्षी को 
इतना कौशल है
पानी में डुबकी लगाकर 
तैरती मछली पकड़ ले जाता है
और एक पक्षी जिसे 
दो आसमान ऊपर उड़कर
सड़ा गला मुर्दा ढूँढ़ना पड़ता है
चूहा-बिल्ली बाज़-पैरोगी शेर-हिरण 
सब प्रकृति ने बनाये हैं
प्रकृति और परिस्थितियों ने
मुझे वह नहीं बनाया 
जो मैं चाहता था
तो इसमें मेरी अपनी 
ग़लती क्या है?

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो