तुम्हारी ईमानदारी

01-02-2020

तुम्हारी ईमानदारी

राजनन्दन सिंह

तुम्हारी ईमानदारी
वस्तुतः ईमानदारी नहीं
समय के साथ 
बदली हुई परिस्थितियों के
ढाँचे में ढली हुई होशियारी है।
जिस ज़मीन पर 
लहलहा रहे हो तुम 
ईमानदारी तो वहाँ पनपती भी नहीं
लहलहायेगी कैसे?
तुम्हारी ईमानदारी की
तुम्हारी दावेदारी
वस्तुतः
ईमानदारी नहीं
नये पैंतरे के साथ
एक नया दाँव
एक नये प्रपंच की 
पूर्वनियोजित तैयारी है
तुम्हारी ईमानदारी!

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें