तुम्हारी चले तो

15-02-2021

तुम्हारी चले तो

राजनन्दन सिंह

हमारे हिस्से का खेत
हमारे हिस्से के बाग़
हमारे हिस्से का वन 
तुम और तुम्हारा धन
कर लेता है अतिक्रमण 
लिखवाकर अपना नामपट्ट
बनाते हो फ़ार्म हाउस
लगवा देते हो चाहारदीवारी
बैठा देते हो पहरा
और हमारा प्रवेश
कर देते हो निषेध
यह संकेत है
तुम्हारी चले तो
तुम भरवा दो सारे खुदे हुए कुँए 
परमार्थ तालाब 
अपने घेरे में ले लो प्रकृति की झीलें
दूषित करवा दो नदियाँ नाले
बोतल में बंद कर दो 
वर्षा और ओस का पानी
नलियों में भर लो हवा
हमारी साँसें हमारा जीवन
और बेचने लगो ऑक्सीजन 
तुम्हारी चले तो
हाँ! तुम ये करोगे
साँसों का भी व्यवसायीकरण

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में