सीमाएँ (राजनन्दन सिंह)

01-10-2020

सीमाएँ (राजनन्दन सिंह)

राजनन्दन सिंह

मनुष्यों ने 
धरती पर
देश प्रदेश ज़िले गाँव
और टोले की 
  
समुद्र में जल की
और आकाश में वायु की
सीमाएँ बनाई
 
धरती पर
इसे नदियों ने 
समुद्र में
इसे मछलियों ने 
और आकाश में
इसे पक्षियों ने 
नहीं माना 
भला क्यूँ मानता
सीमाएँ बौद्धिक विवशता है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

किशोर साहित्य कविता
कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में