शत नमन किसान को

01-06-2020

शत नमन किसान को

राजनन्दन सिंह

शत नमन किसान को
जो पाल रहे इंसान को


कभी न आलस उनको आते
सुबह सवेरे वे जग जाते
खिला-पिला कर बैलों को ले
चल पड़ते खेत खलिहान को
शत नमन किसान को


जोत-कोड़ कर खेत बनाते
वे ख़ुद भी कुदाल चलाते
अच्छी बाली की खातिर वो
सहते शीत धूप तूफ़ान को
शत नमन किसान को


मेहनत उनकी अनमोल बड़ी
वे चैन न लेते एक घड़ी
अपनी मेहनत से पाल रहे हैं
सारे हिन्दुस्तान को
शत नमन किसान को


वे मानव के भाग्य विधाता
जानवरों के आश्रयदाता
सीधा-सादा जीवन उनका
न भूलते भगवान को
शत नमन किसान को

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में