सरदी रानी आई है

01-12-2020

सरदी रानी आई है

राजनन्दन सिंह

शीत पवन को साथ लिये
ठंडी और लम्बी रात लिये
लो सरदी रानी आई है
 
मन में ख़ुशियाँ है उनके
कहीं नहीं ठिठुरना है जिनको
है बाहर-भीतर भरा हुआ
दुशाले हैं रजाई है
लो सरदी रानी आई है

कहवा कॉफ़ी चाय गरम
टोपी जूते और वस्त्र नरम
गाड़ी घर है वातानुकूलित
जहाँ मनचाही गरमाई है
लो सरदी रानी आई है
 
कँपकँपी है ठिठुरन है
निज ही घुटनों संग सिकुड़न है
कहीं दाँत बोलते कट् कट् कट्
हर रोम उभर कहीं आई है
लो सरदी रानी आई है 
 
क्या बीतेगी उस मन पर
नहीं एक वसन है जिस तन पर
वह आग जलाए भी तो कैसे
महँगी दियासलाई है
लो सरदी रानी आई है  
 

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में