सचेतक का धर्म

01-08-2021

सचेतक का धर्म

राजनन्दन सिंह

कथित पापी ने
अनजाने
सचेतक का
धर्म निभाया 
पाखंडी का रूप धरा
 
पीड़ित को दिखाया
पीड़ित को चेताया
पाखंडी ऐसा होता है
पाखंड ऐसा हो सकता है
पाखंडियों ने शोर मचाया 
देखो यह दुष्ट पापी
हमारे वेश में पाप कर रहा है
हमारे वेश को बदनाम कर रहा है
पापी मारा गया
पाखंडियों ने अपना पाखंड बचा लिया 
पापी को मरवा दिया
रावण ने भी तो धरा था
साधू वेश
ताकि ऋषि बदनाम हो
क्या हुआ…?
नहीं..
नहीं न!

2 टिप्पणियाँ

  • आदरणीया डाॅ पद्मावती जी, रचना को पढ़ने एवं रचना पर आपकी टिप्पणी के लिए सादर आभार। जी हमारे समाज का यह एक कटु सत्य है कि पाखंडियों ने अपना नाम सत्य रख लिया है। और वे समाज को गुमराह करते हैं। मेरी इस रचना का यही भाव है।

  • 29 Jul, 2021 08:04 PM

    जी बिलकुल सत्य । पाखंड का बोलबाला! पाखंड की जय हो । आज यही अनुकरणीय आदर्श ! बहुत बधाई और शुभकामनाएँ ।

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
दोहे
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में