प्रार्थना

01-05-2020

प्रार्थना

राजनन्दन सिंह

दो हमें शक्ति ऐसी 
हे देव निराशा भूल जाएँ
कठिन असंभव दिखनेवाले
राह सुलभ हो खुल जाएँ
जग पाए शक्ति
मय अंधभक्ति
बद्ध बुद्धि निर्मूल जाए
भवजड़ता, स्थिति मुग्धता 
सब तेरी कृपा से धुल जाए
जगे सुबुद्धि स्वविवेक 
सामर्थ्य सुपथ हम पा जाएँ
जियें राष्ट्र के लिए सदा हो
जहाँ ज़रूरत काम आएँ

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें