प्रजातंत्र में

01-03-2021

प्रजातंत्र में

राजनन्दन सिंह

प्रजातंत्र में
सुखी कोई नहीं है
जो सच्चा है
ईमानदार है
न देश
न जनता
न नेता
देश अराजकों की
अराजकता की शिकार है
जनता के ऊपर 
समस्याओं का पहाड़ है
नेता को हरदम
कुर्सी बचाने और पाने की
चिन्ता सवार है
हाँ कुछ लोग मज़े में ज़रूर है
जिन पर अल्लाह मेहरबान है
पात्रता चपरासी की है
और बने हुए सरकार हैं

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
सम्पादकीय प्रतिक्रिया
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में