प्राणों से भी प्यारा झंडा

15-08-2020

प्राणों से भी प्यारा झंडा

राजनन्दन सिंह

प्राणों से भी प्यारा झंडा
भारत का यह शान है
प्राणार्पण है इसकी ख़ातिर
देश का यह अभिमान है
 
केसरिया तप त्याग मनोबल
सर्वोपरि हमारा
श्वेत सत्य शांति अहिंसा
का संदेश हमारा
हरा हिमालय से लेकर
सागर तक देश हमारा
धर्मचक्र प्रगतिशीलता
का संकल्प महान है
 
हृदय हरषता तब-तब 
जब-जब भी कहीं फहराता 
गर्व से सीना तन जाता 
मन में रोमांच हो आता
खिलाड़ियों का शौर्य परिचय 
जब जग से यह करवाता
राष्ट्रधुन संग देख तिरंगा
भर आती  मुस्कान है
प्राणों से भी प्यारा झंडा
भारत का यह शान है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में