प्राकृतिक आपदाएँ

15-07-2020

प्राकृतिक आपदाएँ

राजनन्दन सिंह

प्राकृतिक आपदाएँ
दो तरह से नुक़सान पहुँचाती हैं
सच्चों को गिराती हैं
झूठों को चढाती हैं
मेहनत पर पानी फेरती हैं
उम्मीदों को कुचल देती हैं
भ्रष्टों की मदद करती हैं
बेईमानों को बल देती हैं

 

अतिवृष्टि और बाढ़
किसानों के फ़सल से पहले 
भ्रष्टों के काग़ज़ पर बने महामार्ग 
बहा ले जाती हैं

 

अनावृष्टि और सूखा
किसानों के कंठ से पहले
झूठों की अनुमानित विकास दर 
सुखा  देता है

 

आँधी और तुफ़ान 
ग़रीबों की झोपड़ी से पहले
बेईमानों के महत्वाकांक्षी सब्ज़बाग़ 
उजाड़ देता है

 

बीमारी और महामारी
निर्दोष जनता को मारती है
चतुरों की लहलहाती अर्थव्यवस्था
मुरझा देती है


प्राकृतिक आपदाएँ
देश की कमर तोड़ती हैं
पापियों के तो सारे पाप
मिटा देती हैं


आपदाएँ तो आपदाएँ
दुर्घटनाएँ भी
आरोपियों का साथ देती हैं


शॉर्ट सर्किट की आग
लगती है ठीक वांछित आलमारी के पास
ज़रूरी सबूत की सारी फ़ाइलें 
जला देती है

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो

विशेषांक में