मूर्ति विसर्जन

15-06-2020

मूर्ति विसर्जन

राजनन्दन सिंह

मूर्ति विसर्जन के साथ ही
बहा दी जाती है
मूर्तिकार की
कठिन साधना से तैयार
प्रतिवर्ष
उसकी एक नई कृति


वह सरकारी अधिकारी नहीं है
जिनका बनवाया
भवन सड़क और पुल
उद्घाटन पूर्व यदि ढह भी जाए
तो उसे कोई दर्द न हो


वह कलाकार है
उसे दर्द होता है
हर बार दर्द होता है
वचनबद्ध निःशब्द
शांतनु की तरह
जब-जब भी वह देखता है
हर वर्ष
अपनी बनायी हुई
मूर्तियों का विसर्जन
और अगले वर्ष पुनः
एक और विसर्जन

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो