मेरा मन

01-09-2020

मेरा मन 
एक सादा पन्ना था
बिलकुल सफ़ेद धब्बा रहित
बगुले के पंख की भाँति
तुमने अपने प्रेम की स्याही से
मेरे कोरे मन पर
लगा दिया प्रेम का चिह्न
मन के सादे पन्ने पर
खींच दी तुमने भय की रेखा
हाँ भय 
प्रेम के खोने का भय 
मेरे मन के सादे सफ़ेद दीवार पर
छिड़क दी तुमने
राग द्वेष काम और क्रोध की स्याही 
थाप दिया एक थप्पा
मेरा मन
एक शांत और चुपचाप सरोवर था
तुमने फेंक दी उसमें माया का ढेला
पैदा कर दी मोह का तरंग
मेरे शांत मन वीणा के तार को छेड़कर
भर दिया तुमने मेरे मन में संगीत
ख़ुशियों के रंग 
और जीवन के उमंग

0 टिप्पणियाँ

कृपया टिप्पणी दें

लेखक की अन्य कृतियाँ

कविता
किशोर साहित्य कविता
बाल साहित्य कविता
हास्य-व्यंग्य कविता
नज़्म
विडियो
ऑडियो